जाति कलाई बैंड पहनने के लिए बाध्य करने वाले स्कूलों पर कार्रवाई

जाति कलाई बैंड पहनने के लिए बाध्य करने वाले स्कूलों पर कार्रवाई

shivali agrawal | Updated: 14 Aug 2019, 05:47:03 PM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

Tamilnadu स्कूल शिक्षा विभाग ने अपने अधिकारियों से कहा है कि राज्य में ऐसे स्कूलों की पहचान कर उन पर कार्रवाई करें जहां बच्चों को उनकी जाति की पहचान के लिए कथित तौर पर अलग-अलग रंग की कलाई पट्टियां पहनाई जाती हैं।

चेन्नई. तमिलनाडु स्कूल शिक्षा विभाग (Tamil Nadu School Education Department)
ने अपने अधिकारियों से कहा है कि राज्य में ऐसे स्कूलों की पहचान कर उन पर कार्रवाई करें जहां बच्चों को उनकी जाति caste की पहचान के लिए कथित तौर पर अलग-अलग रंग की कलाई पट्टियां पहनाई जाती हैं। स्कूल शिक्षा विभाग के निदेशक ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे अपने जिलों में ऐसे स्कूलों की पहचान करें जहां इस तरह का भेदभाव किया जाता है और उन पर कड़ी कार्रवाई की जाए। स्कूल शिक्षा निदेशक एस. कनप्पन की तरफ से जारी सर्कुलर के मुताबिक तमिलनाडु के कुछ स्कूलों में छात्रों को अलग-अलग रंग की कलाई पट्टियां पहनाई जाती हैं। लाल, पीला, हरा और भगवा रंग की ये पट्टियां दर्शाती हैं कि बच्चे अगड़ी जाति के हैं या पिछड़ी जाति के। अधिकारी ने बताया कि जाति की पहचान के लिए माथे पर तिलक लगाया जाता है। उन्होंने कहा कि समझा जाता है कि इस तरह का काम खेल टीम के चयन, प्रार्थना के दौरान और भोजनावकाश के दौरान किया जाता है। सर्कुलर में कहा गया है, ये कार्य खुद छात्र करते हैं और इसका समर्थन जाति के प्रभावशाली लोग और शिक्षक भी करते हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned