scriptaiadmk congress alliance for 2024 | 2024 पर नजर: तमिलनाडु में अल्पसंख्यकों का वोट पाने को अन्नाद्रमुक और कांग्रेस मिलाएंगी हाथ | Patrika News

2024 पर नजर: तमिलनाडु में अल्पसंख्यकों का वोट पाने को अन्नाद्रमुक और कांग्रेस मिलाएंगी हाथ

अन्नाद्रमुक आम परिषद चुनावों में पक्की जीत के बाद पलानीस्वामी ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ एक विचार-मंथन सत्र आयोजित किया। इसमें एनडीए संग संबंधों और 2024 के आम चुनावों को लेकर बात की गई।

चेन्नई

Published: July 24, 2022 05:26:41 pm

चेन्नई.

अन्नाद्रमुक (एआईएडीएमके) के अंतरिम महासचिव के रूप में एडपाडि के. पलनीस्वामी ने 11 जुलाई को हुई पार्टी की आम परिषद में भारी जीत हासिल की थी। उनकी इस जीत ने वरिष्ठ नेता ओ. पन्नीरसेल्वम समेत पार्टी को अपने राजनीतिक रणनीतियों पर पुनर्विचार करने पर मजबूर कर दिया है।

2024 पर नजर: तमिलनाडु में अल्पसंख्यकों का वोट पाने को अन्नाद्रमुक और कांग्रेस मिलाएंगी हाथ
2024 पर नजर: तमिलनाडु में अल्पसंख्यकों का वोट पाने को अन्नाद्रमुक और कांग्रेस मिलाएंगी हाथ

पार्टी के अंदरूनी सूत्रों के अनुसार, अन्नाद्रमुक ने 2024 के आम चुनावों के उद्देश्य से तमिलनाडु में कांग्रेस पार्टी के साथ बातचीत शुरू कर दी है, जिससे साफ है कि वह भाजपा के साथ संबंध तोडऩा चाहती है। तमिलनाडु में बड़ी संख्या में अल्पसंख्यक वोटों को अपनी ओर खींचने के लिए एआईएडीएमके ने एडपाडि पलनीस्वामी के नेतृत्व में अपनी रणनीतियों पर काम करना शुरू कर दिया है।

तमिलनाडु भाजपा के प्रमुख के रूप में के. अन्नामलाई ने पार्टी को राज्य में अपनी बढ़त हासिल करने के लिए प्रेरित किया है। अन्नामलाई के नेतृत्व में भाजपा एक आक्रामक राजनीतिक आंदोलन के रूप में बदल रही है। अन्नाद्रमुक के सूत्रों ने बताया कि अगर पार्टी एनडीए के साथ अपना गठबंधन जारी रखती है, तो तमिलनाडु की राजनीति में उसके दरकिनार होने की संभावना ज्यादा है।

मदुरै स्थित सामाजिक-आर्थिक विकास फाउंडेशन के निदेशक डॉ. जी. पद्मनाभन ने कहा, तमिलनाडु की राजनीति में अन्नाद्रमुक को अपनी पहचान बनाने के लिए अल्पसंख्यक समुदायों के साथ गठबंधन करना होगा और अन्नाद्रमुक अब इस लूप से बाहर हो गई है। दूसरी ओर, पार्टी हिंदुत्व की राजनीति के साथ पीछे नहीं रह सकती, भाजपा अन्नामलाई के जरिए लोगों के बीच अपनी पहचान बना रही है। ऐसे में अन्नाद्रमुक पर अधिक दवाब बढ़ गया है।

अन्नाद्रमुक ने 2019 के आम चुनावों में 38 सीटों में से एक सीट जीती थी। ओ. पन्नीरसेल्वम के बेटे ओ.पी. रवींद्रनाथ ने तेनी लोकसभा सीट से विजय प्राप्त की थी। उन्हें अब पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। यानी अब पार्टी का संसद में कोई निर्वाचित प्रतिनिधि नहीं है।

अन्नाद्रमुक आम परिषद चुनावों में पक्की जीत के बाद पलानीस्वामी ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ एक विचार-मंथन सत्र आयोजित किया। इसमें एनडीए संग संबंधों और 2024 के आम चुनावों को लेकर बात की गई।

तमिलनाडु की कांग्रेस पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा, अगर हम एक उचित राजनीतिक पार्टी संग गठबंधन नहीं करते हैं तो तमिलनाडु में कांग्रेस हाशिए पर चली जाएगी। अन्नाद्रमुक और कांग्रेस दोनों गठबंधन करें और नए मोर्चे के साथ प्रयास करें। यह प्रयास 2026 के विधानसभा चुनावों में बड़े पैमाने जीत दिला सकता है।

लोकसभा में तमिलनाडु से कांग्रेस के 7 सांसद हैं, जबकि अन्नाद्रमुक के पास केवल एक सांसद है जो अब निष्कासित है। इसका मतलब यह होगा कि कांग्रेस से अधिक सौदेबाजी और विधानसभा में अपने प्रचंड बहुमत के साथ द्रमुक अधिक सीटों के लिए कांग्रेस की मांगों पर विचार नहीं करेगी, इसलिए अन्नाद्रमुक के साथ गठबंधन करना बेहतर विकल्प होगा।

अन्नाद्रमुक को उनके राजनीतिक रणनीतिकार ने भी सलाह दी है कि पार्टी राजनीतिक सुर्खियों में तभी आएगी, जब उसे अल्पसंख्यक वोट हासिल करने होंगे और उसके लिए सबसे अच्छा विकल्प भाजपा के साथ संबंध तोडऩा और नए सहयोगियों की तलाश करना था। कांग्रेस वर्तमान में अन्नाद्रमुक के लिए सबसे अच्छी सहयोगी है। कांग्रेस अन्नाद्रमुक से अधिक सीटों के लिए सौदेबाजी कर सकती है और तमिलनाडु के अधिकतम सांसदों को वापस कर सकती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी को लगी गोली, जवान भी घायल38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीदराष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.