scriptAIADMK formalises dual leadership, top brass to be elected directly by | AIADMK Executive Committee:  दोहरे नेतृत्व पर लगाई मुहर, प्राथमिक सदस्य करेंगे सीधा चुनाव | Patrika News

AIADMK Executive Committee:  दोहरे नेतृत्व पर लगाई मुहर, प्राथमिक सदस्य करेंगे सीधा चुनाव

- शशिकला से निपटने की तैयारी

- अन्नाद्रमुक कार्यसमिति की बैठक में प्रस्ताव पारित

- पार्टी संविधान में किया संशोधन

 

चेन्नई

Updated: December 01, 2021 07:10:23 pm

चेन्नई.

जयललिता की करीबी वीके शशिकला के फिर से अन्नाद्रमुक की सिरमौर बनने की जुगत के बीच ओपीएस-ईपीएस नीत पार्टी ने बुधवार को एक तीर से दो निशाने साधने की कोशिश की। पार्टी कार्यसमिति ने संविधान में बदलाव कर समन्वयक और सह-समन्वयक के दोहरे नेतृत्व की व्यवस्था की पुष्टि करते हुए इनके चुनाव की प्रणाली को परिभाषित किया है। केवल पार्टी के प्राथमिक सदस्य ही एक वोट के जरिए इनका चुनाव करेंगे। जबकि मौजूदा व्यवस्था यह थी कि पार्टी महापरिषद समन्वयक और सह-समन्वय को चुनेगी।

AIADMK formalises dual leadership, top brass to be elected directly by primary members
AIADMK formalises dual leadership, top brass to be elected directly by primary members

उल्लेखनीय है कि आम चुनाव के बाद से शशिकला पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं से संपर्क कर स्वयं को महासचिव बताते हुए पार्टी में प्रवेश करने के प्रयास में है जिसका अन्नाद्रमुक नेताओं द्वारा विरोध किया जा रहा है।

अन्नाद्रमुक ने पार्टी संविधान में किए बदलाव के तहत शीर्ष नेतृत्व के चुनाव के लिए 'प्राथमिक सदस्योंÓ को अधिकृत किया है। हालांकि वे इन दोनों पदों के लिए एक वोट ही डालेंगे। शीर्ष नेतृत्व का आशय संयुक्त रूप से समन्वयक और सह-समन्वयक से है। उल्लेखनीय है कि २०१७ में ईपीएस-ओपीएस के धड़े के विलय के बाद जब दोहरे नेतृत्व की व्यवस्था लागू की गई थी तब महासचिव के सभी अधिकार समन्वयक ओ. पन्नीरसेल्वम (ओपीएस) और सह-समन्वय ईके पलनीस्वामी (ईपीएस) को दे दिए गए थे। साथ ही यह तय हुआ था कि महापरिषद ही इनका चुनाव करेगी। अब उस व्यवस्था में संशोधन किया गया है।

प्राथमिक सदस्यों की रायशुमारी
पार्टी की आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार यह संशोधन तत्काल प्रभाव से लागू माना जाएगा। संशोधन संबंधी प्रस्ताव पारित किए जाने से पहले पार्टी के प्राथमिक और कार्यकारिणी सदस्यों से रायशुमारी की गई है। संशोधन संबंधी विशेष प्रस्ताव उप संयोजक केपी मुन्नुसामी ने पेश किया। इस मौके पर मार्गदर्शन समिति के सभी सदस्य उपस्थित थे।

यह हुआ बदलाव

- प्राथमिक सदस्य करेंगे शीर्ष नेतृत्व का चुनाव
- नियम ४३ के तहत महापरिषद को नए कानून बनाने और हटाने का अधिकार
- नियम ४५ समन्वयक और सह-समन्वय को किसी भी प्रावधान में छूट और रियायत देने का अधिकार
- नियम २० (ए)(२) जो शीर्ष नेतृत्व के चुनाव की व्याख्या करता है, में कोई बदलाव नहीं किया जा सकता

आगे क्या
- दोहरे नेतृत्व की पुष्टि से शशिकला को महासचिव बनने से रोकने की पहल
- संशोधन को न्यायालय में मिल सकती है चुनौती

तमिलमगन अस्थाई पदेन अध्यक्ष नियुक्त
कार्यकारी समिति की बैठक में बुधवार तमिलमगन हुसैन को पार्टी का नया पदेन अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। हालांकि यह नियुक्ति अस्थाई प्रकृति की होगी। ई. मधुसूदनन के निधन के बाद यह पद रिक्त था। कन्याकुमारी जिले के रहने वाले हुसैन एमजीआर मंड्रम के सचिव हैं और वक्फ बोर्ड का नेतृत्व भी कर चुके हैं। इसी तरह पार्टी नेतृत्व के खिलाफ विचार रखने वाले वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद अनवर राजा को बीती रात बर्खास्त कर दिया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: आज होगी वीरता पुरस्कारों की घोषणा, गणतंत्र दिवस से पूर्व राजधानी बनी छावनीशरीयत पर हाईकोर्ट का अहम आदेश, काजी के फैसलों पर कही ये बातभाजपा की नई लिस्ट में हो सकती है छंटनी की तैयारी, कट सकते हैं 80 विधायकों के टिकटDelhi: सीएम केजरीवाल का ऐलान, अब सरकारी दफ्तरों में नेताओं की जगह लगेंगी अंबेडकर और भगत सिंह की तस्वीरेंछत्तीसगढ़ में 24 घंटे में 19 मरीजों की मौत, जनवरी में ये आंकड़ा सबसे ज्यादा, इधर तेजी से बढ़ रही एक्टिव मरीजों की संख्याUttar Pradesh Assembly Elections 2022: शह और मात के खेल में डिजिटल घमासान, कौन कितने पानी मेंRepublic Day 2022: जानिए इसका इतिहास, महत्व और रोचक तथ्यकई टेस्ट में भी पकड़ में नहीं आता BA 2 स्ट्रेन, जानिए क्यों खतरनाक है ओमिक्रान का ये सब वेरिएंट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.