scriptAir pollution due to thermal plant in TN | तमिलनाडु में थर्मल पावर प्लांट अधिक जहरीली गैसों का उत्सर्जन कर रहे | Patrika News

तमिलनाडु में थर्मल पावर प्लांट अधिक जहरीली गैसों का उत्सर्जन कर रहे

- पर्यावरणीय गैर-सरकारी संगठन पूवुलागिन नानबर्गल के एक अध्ययन में आया सामने

चेन्नई

Updated: October 26, 2021 07:34:33 pm

चेन्नई.

तमिलनाडु जनरेशन एंड डिस्ट्रीब्यूशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड और एनटीपीसी लिमिटेड के थर्मल पावर प्लांट अधिक जहरीली गैसों का उत्सर्जन कर रहे हैं। पर्यावरणीय गैर-सरकारी संगठन पूवुलागिन नानबर्गल के एक अध्ययन में यह बात सामने आई। अध्ययन में पाया गया कि कई ताप संयंत्रों में संयंत्रों से निकलने वाली जहरीली गैसों की मात्रा की निगरानी और नियंत्रण के लिए ग्रिप गैस डिसल्फराइजर (एफजीडी) उपकरण नहीं है।

Air pollution due to thermal plant in TN
Air pollution due to thermal plant in TN

पूवुलागिन नानबर्गल के अनुसार, तमिलनाडु में कोयला आधारित बिजली संयंत्रों के लिए एसओ2 उत्सर्जन और एफजीडी स्थापना का अध्ययन उत्सर्जन निगरानी स्थिति मूल्यांकन, सेंटर फॉर रिसर्च ऑन एनर्जी एंड क्लीन एयर और एसार के साथ किया गया था। पूवुअलगिन नानबर्गल ने तमिलनाडु में थर्मल पावर प्लांट से निकलने वाली जहरीली गैसों की मात्रा पर सर्वेक्षण किया और उन बिजली संयंत्रों की संख्या की पहचान की, जिनके पास पौधों से निकलने वाली जहरीली गैसों की मात्रा की निगरानी और नियंत्रण के लिए एफजीडी डिवाइस है।

अध्ययन तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के ऑनलाइन सतत उत्सर्जन निगरानी प्रणाली (ओसीईएमएस), केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, एनएलसी इंडिया और एनटीपीसी से सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत प्राप्त आंकड़ों पर आधारित है।

आठ बिजली संयंत्रों के लिए एफजीडी की खरीद में कोई प्रगति नहीं
अध्ययन के अनुसार, वर्तमान में तमिलनाडु (1,200 मेगावाट) में चल रहे 40 थर्मल पावर प्लांट (13,160 मेगावाट) में से केवल दो ही एफजीडी से लैस हैं। अध्ययन में कहा गया है कि आठ बिजली संयंत्रों के लिए एफजीडी की खरीद में कोई प्रगति नहीं हुई है। सर्वेक्षण के अनुसार, 30 ताप विद्युत संयंत्रों ने उनके द्वारा उत्सर्जित जहरीली गैस को कम करने के उद्देश्य से एफजीडी उपकरण में फिट होने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की है।

तुतुकुडी और मेट्टूर सबसे अधिक कोयला जलाने वाले क्षेत्र
एक सदस्य सुनील दहिया ने कहा कि केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने देश में थर्मल पावर स्टेशनों से निकलने वाली जहरीली गैसों के लिए मानक निर्धारित किए हैं। संयंत्रों से जहरीली गैस उत्सर्जन को कम करने के लिए दो साल की छूट अवधि दी गई थी। लेकिन अनुग्रह अवधि बढ़ा दी गई थी और 21 मार्च तक 2021 में यह घोषणा की गई थी कि अनुग्रह अवधि 2024/25 तक बढ़ा दी गई है। नेवेली, चेन्नई, तुतुकुडी और मेट्टूर देश में सबसे अधिक कोयला जलाने वाले क्षेत्र हैं। नेवेली और चेन्नई दुनिया के शीर्ष 50 कोयला जलाने वाले क्षेत्रों में शामिल हैं।

जीवाश्म ईंधन के उपयोग से ग्रीनहाउस का उत्सर्जन
पूवुलागिन नानबर्गल के जी. सुंदरराजन ने कहा, आईपीसीसी (जलवायु परिवर्तन पर अंतर सरकारी पैनल) की कई रिपोर्टों के अनुसार, मानव गतिविधि ग्लोबल वार्मिंग की ओर ले जाती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि थर्मल पावर प्लांट द्वारा जीवाश्म ईंधन के उपयोग से ग्रीनहाउस का उत्सर्जन होता है। गैसें जो बदले में जलवायु परिवर्तन को तेज करती हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.