चेन्नई: किराया नहीं देने पर पुलिस इंस्पेक्टर की पीटाई के बाद किराएदार ने आत्मदाह किया, पुलिस इंस्पेक्टर निलंबित

- किराया का मामला

By: PURUSHOTTAM REDDY

Updated: 02 Aug 2020, 08:32 PM IST

चेन्नई.

तुत्तुकुडी के सातनकुलम में हिरासत में पिता-पुत्र के मौत के एक महीने बाद चेन्नई पुलिस की बर्बरता का एक और मामला सामने आया है। यहां एक 40 वर्षीय श्रीनिवासन ने कथित तौर पर पुलिस इंस्पेक्टर की पीटाई के बाद आत्मदाह कर लिया। इस घटना के बाद पुलिस इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया है।

बताया जा रहा है कि मकान मालिक राजेन्द्रन की शिकायत के बाद पुलिस इंस्पेक्टर ने श्रीनिवासन को इतना पीटा कि उसने खुद को आग लगा ली। करीब 80 प्रतिशत झुलसने के बाद उसे कीलपॉक मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

लॉकडाउन में हुई कमाई बंद
जानकारी के मुताबिक पेशे से पेंटर श्रीनिवासन कुछ महीने पहले पूझल के बालविनायकपुरम कोविल स्ट्रीट में किराए के कमरे में अपने परिवार के साथ रहने आया था, लेकिन लॉकडाउन लागू होने के बाद उसका काम छूट गया और उसकी आमदनी बंद हो गई, जिस वजह से वह किराए देने में असमर्थ था। मकान मालिक राजेन्द्रन किराए को लेकर उसपर दबाव बना रहा था।

परिवार के सामने पीटा
राजेन्द्रन का आरोप है कि जब भी वह श्रीनिवासन से किराया मांगता है, वह उसके साथ बदमीजी करता है। राजेन्द्रन ने पूझल पुलिस में श्रीनिवासन के खिलाफ शिकायत की। शिकायत प्राप्त होने के बाद पुलिस इंस्पेक्टर सैम बेंसन राजेन्द्रन के घर गया और पूछताछ की। श्रीनिवासन के भाई ने बताया कि मकान मालिक राजेन्द्रन किराए नहीं देने पर पुलिस इंस्पेक्टर को घर लेकर आया और पुलिस इंस्पेक्टर ने उसके भाई श्रीनिवासन को बच्चे और पत्नी के सामने पीटा। इससे आहत होकर श्रीनिवासन ने आत्मदाह कर लिया।

श्रीनिवासन की मौत के बाद पुलिस इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया है और मामले की जांच की जा रही है। केन्द्र और राज्य सरकार ने लॉकडाउन के दौरान मकान मालिकों को किराएदार से जबरन किराया न मांगने के निर्देश दिए है।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned