बेंगलूरु संघ ने किए आचार्य महाश्रमण के दर्शन

जैन श्वेताम्बर तेरापंथ सभा बेंगलूरु के तत्वावधान में साध्वी कंचन प्रभा की प्रेरणा से ५00 श्रावक-श्राविकाओं के दल ने सोमवार को चेन्नई स्थित माधावरम में जैन तेरापंथ नगर स्थित महाश्रमण सभागार में आचार्य महाश्रमण के दर्शन किए। इस मौके पर अपने संबोधन में आचार्य ने कहा कि अहिंसा यात्रा में तीन बातों सद्भावना, नैतिकता एवं नशामुक्ति पर ध्यान दिया गया है। उन्होंने मैत्री भाव

By: मुकेश शर्मा

Published: 15 Nov 2018, 11:12 PM IST

चेन्नई।जैन श्वेताम्बर तेरापंथ सभा बेंगलूरु के तत्वावधान में साध्वी कंचन प्रभा की प्रेरणा से ५00 श्रावक-श्राविकाओं के दल ने सोमवार को चेन्नई स्थित माधावरम में जैन तेरापंथ नगर स्थित महाश्रमण सभागार में आचार्य महाश्रमण के दर्शन किए। इस मौके पर अपने संबोधन में आचार्य ने कहा कि अहिंसा यात्रा में तीन बातों सद्भावना, नैतिकता एवं नशामुक्ति पर ध्यान दिया गया है। उन्होंने मैत्री भाव रखने एवं ईमानदारी से काम करने को कहा। नशीले पदार्थों के सेवन से बचें। चातुर्मास के दौरान आध्यात्मिक उत्साह व सादगी बनाएं।

मूलचंद नाहर के नेतृत्व में संघ के सदस्य चेन्नई पहुंचे। इस दल में आदिचुनचनगिरी मठ के प्रमुख निर्मलानन्द स्वामी, विधान परिषद सदस्य लहर सिंह सिरोया, बाबूलाल पोरवाल, प्रकाश खींचा, नगीन खींचा, श्रीपाल खिंवेसरा, तेजराज गुलेच्छा, चैनराज छाजेड़, कमल सिपानी, के. के. भंसाली, प्रकाश पिरगल, किशनलाल कोठारी, प्रकाश सिंघवी, फूलचंद जैन शामिल थे। संघ के प्रायोजक देवराज मूलचंद नाहर चैरिटेबल ट्रस्ट है।

आचार्य महाश्रमण ने अपनी मंगल सन्निधि में बेंगलूरु से पधारे संत निर्मलानंद स्वामी तथा मेजर जनरल नरपत सिंह राजपुरोहित को पावन पाथेय प्रदान करते हुए कहा कि पूर्ण निष्ठा से मानवता और राष्ट्र की सेवा हो, नैतिकता का विकास हो।

खूब धार्मिकता और आध्यात्मिकता के भाव पुष्ट हों। संत निर्मलानंद स्वामी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए आचार्य को बेंगलूरु चातुर्मास में पधारने के लिए आमंत्रित भी किया। इसके बाद मेजर जनरल नरपत सिंह राजपुरोहित ने अपनी भावाभिव्यक्ति देते हुए कहा कि जब तक धर्म का पालन नहीं होता, सेना विजय प्राप्त नहीं कर सकती। आपके आशीर्वाद से और आपकी वाणी का हम अपने जीवन में दस प्रतिशत अंश भी उतार सकें तो कल्याण हो जाएगा। हमारा प्रयास होता है कि हम आपकी मंगलवाणी को अपने जीवन में उतारें और देश की रक्षा की हमें सदैव प्रेरणा मिलती रहती है।

जैन समाज में उत्साह

संघ के साथ पहुंचे बेंगलूरु चातुर्मास प्रवास व्यवस्था समिति के अध्यक्ष मूलचंद नाहर ने अपनी ावाभिव्यक्ति दी। उन्होंने कहा कि बेंगलूरु चातुर्मास को लेकर सभी में उत्साह है। सभी आतुरता से इसकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। बेंगलूरु से आए संघ में उद्योगपति, सीए, चिकित्सक, शिक्षाविद तथा विभिन्न संस्थाओं के प्रमुख शामिल थे।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned