डीवीएसी की कार्रवाई पर केसी वीरमणि की सफाई: केवल 5600 रुपए मिले घर से, सातवीं कक्षा से है बेंज कार

- आय से अधिक सम्पत्ति अर्जित करने का मामला

By: PURUSHOTTAM REDDY

Updated: 20 Sep 2021, 06:00 PM IST

तिरुपत्तूर.

पूर्व अन्नाद्रमुक मंत्री केसी वीरमणि का कहना है कि उनके आवास व ठिकानों पर सतर्कता व भ्रष्टाचाररोधी निदेशालय (डीवीएसी) की छापेमारी में केवल 5600 रुपए नकद बरामद हुई। जहां तक महंगी कार का सवाल है वह 40 साल पुरानी है।

वेलूर डीवीएसी ने आय से अधिक सम्पत्ति अर्जित करने के आरोप में 16 सितम्बर को 35 जगहों पर एकसाथ छापा मारा था। उन पर आय से अधिक 654 प्रतिशत संपत्ति जुटाने का आरोप है। छापे में 35 लाख रुपये नकद, 1.80 लाख रुपये के विदेशी मुद्रा नोट, 5 किलो सोने के आभूषण, 9 लग्जरी कारें, करोड़ों रुपये की संपत्ति के दस्तावेज और चांदी के बर्तन जब्त करने की बात सामने आई थी।

चुनाव से जुड़ी कार्रवाई
इस बीच पूर्व मंत्री वीरमणि ने सोमवार को संवाददाताओं को संबोधित किया कि मीडिया में प्रकाशित समाचार कि उनके आवास से बेहिसाब नकदी बरामद हुई है गलत है। मुझे और मेरी पार्टी के बारे में लोगों में भ्रांतियां फैलाने और बदनाम करने के इरादे से सबकुछ हुआ है जो प्रत्यक्ष रूप से स्थानीय निकाय चुनावों से जुड़ा है।

गहने लौटाए
अन्नाद्रमुक नेता ने कार्रवाई के बाद उनको सौंपी गई प्रति दिखाते हुए कहा कि उस दिन उनसे 2746 ग्राम सोने के आभूषण, 2,508 अमेरिकी डॉलर (भारतीय रुपये में 1.80 लाख), नकद में 10 रुपया का बंडल यानी 1000 रुपये सहित 5600 की नकदी डीवीएसी ने जब्त की थी। उनके अनुसार चुनाव नामांकन में उन्होंने 300 यानी करीब 2400 ग्राम के स्वर्णाभूषण दिखाए थे। इसके आधार पर जब्त गहने लौटा दिए गए है। बेटी ऑस्ट्रेलिया में पढ़ती है। उसकी सुविधा के लिए अमेरिकी डॉलर खरीदे थे।

कारोबारी परिवार
स्वयं को बड़े कारोबारी परिवार से बताते हुए वीरमणि ने कहा कि उनको बचपन से कारों का शौक है। जब वे सातवीं कक्षा में थे, तब उनके पास बेंज कार थी। इसके अलावा रोल्स रॉयस कार है। जो सबसे पुरानी कार है और विंटेज संग्रह है। कारोबार का हर साल बराबर रिटर्न भर रहे हैं। उनके पास हर चीज का हिसाब है। चुनाव के मद्देनजर जनता के बीच झूठ फैलाया जा रहा है।

रात दस तक छापेमारी
उन्होंने बताया कि हर चीज खंगाली गई और रात दस बजे छापेमारी पूरी होने के बाद जब्त सूची तैयार की गई जिन पर उन्होंने हस्ताक्षर किए। लेकिन यह खबर सुर्खी बनी कि छापेमारी में करोड़ों के गहने व आभूषण बरामद हुए है। पूर्व मंत्री ने आरोप लगाया कि चुनाव के खातिर उनको और उनकी पार्टी पर दबाव डालने की कोशिश की जा रही है। वे इस मामले को कानूनी तरीके से निपटेंगे।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned