जल्लीकट्टू हिन्दुओं का खेल

TWEET : तमिलनाडु भाजपा ने ट्वीट में एक जातक कथा के माध्यम से कहा कि भोलेनाथ (LORD SHIV) के वाहन नंदी के अंश कहे जाने वाले बैलों व सांडों को काबू करने की प्रथा का 'हिन्दू' अनुसरण करते आ रहे हैं।

चेन्नई. तमिलनाडु में पोंगल के अवसर पर ग्राम्य परिवेश में आयोजित किए जाने वाले पराक्रमी खेल जल्लीकट्टू को लेकर भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश इकाई ने नई राय दी है जो सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बन गई।

तमिलनाडु भाजपा ने किया TWEET

तमिलनाडु भाजपा ने ट्वीट किया कि भगवान शिव ने एक बार उस समय के शासक के पराक्रम की परीक्षा लेने की ठानी। वे शिकारी का भेष धारण कर राजा से लड़े। उस वक्त राजा को भगवान शिव के आलिंगन का मौका मिला। इस जातक कथा के अनुरूप भोलेनाथ के वाहन नंदी के अंश कहे जाने वाले बैलों व सांडों को काबू करने की प्रथा का 'हिन्दू' अनुसरण करते आ रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि सभी जगह जल्लीकट्टू का वर्णन तमिलों के अतिप्राचीन खेल के रूप में मिलता है। ऐसे में जातक कथा का संदर्भ देते हुए इसे हिन्दुओं का खेल बताने पर लोगों की कड़ी प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं।

MAGAN DARMOLA
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned