चार दशक पहले तमिलनाडु से चोरी हुई भगवान राम, लक्ष्मण व मां सीता की प्राचीन मूर्तिया ब्रिटेन ने लौटाई

इन मूर्तियों की चोरी 1978 में हुई थी जिसके बाद तमिलनाडु पुलिस ने लंदन की मेट्रोपोलिटन पुलिस के साथ मिलकर जांच शुरू की थी।

 

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 16 Sep 2020, 05:11 PM IST

चेन्नई.

तमिलनाडु के एक मंदिर से 4 दशक पहले चुराई गई भगवान राम, लक्ष्मण और मां सीता की तीन मूर्तियों को मंगलवार को ब्रिटिश पुलिस ने भारत सरकार को वापस दे दिया। संस्कृति मंत्रालय की ओर से जारी एक वक्तव्य में यह जानकारी दी गई।

प्रतिमाओं के वास्तविक इतिहास और महत्व को जानने के बाद एक संग्रहकर्ता ने खुद इन मूर्तियों को लौटाने की पेशकश की थी। केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल, लंदन स्थित उच्चायोग में तीन प्रतिमाओं को सौंपे जाने के समारोह में डिजिटल माध्यम से शामिल हुए। इन मूर्तियों की चोरी 1978 में हुई थी जिसके बाद तमिलनाडु पुलिस ने लंदन की मेट्रोपोलिटन पुलिस के साथ मिलकर जांच शुरू की थी।

एक अनाम संग्रहकर्ता ने मूर्तियों को खरीदा था जिसे मेट्रोपोलिटन पुलिस ने घटना की जानकारी दी। सन 1950 में खींचे गए प्रतिमाओं के चित्रों से मिलान करने के बाद पाया गया कि यह विजयनगर काल की वही मूर्तियां हैं जिन्हें तमिलनाडु के नागपट्टिनम जिले के अनंतमंगलम में स्थित श्री राजगोपालस्वामी मंदिर से चुराया गया था।

लंदन में इंडिया हाउस में आयोजित एक समारोह में कोविड-19 के चलते सीमित संख्या में अतिथियों को बुलाया गया। समारोह में लंदन स्थित श्री मुरुगन मंदिर के पुजारियों ने मूर्तियों की संक्षिप्त पूजा अर्चना की और इसके बाद उन्हें भारत को सौंप दिया गया। ब्रिटेन में भारत की उच्चायुक्त गायत्री इस्सर कुमार ने कहा, 'आज इन सुंदर प्रतिमाओं की खोज पूरी हुई। हम यह सुनिश्चित करना चाहते थे कि इन मूर्तियों को भारत भेजने से पहले इनके साथ आदरपूर्वक व्यवहार किया जाए।'

उन्होंने कहा, 'भारत सरकार की ओर से मुझे उम्मीद है कि इससे प्रेरणा लेकर संग्रहालय और संग्रहकर्ता अपने संग्रह की जांच करेंगे और भारत के लोगों को उनके भगवान की मूर्तियां वापस करने में हमारी सहायता करेंगे।' ब्रिटेन में रहने वाले संग्रहकर्ता को भारतीय कला और संस्कृति का प्रशंसक बताया जाता है।

मेट्रोपोलिटन पुलिस के टिम राईट ने कहा, 'इन प्रतिमाओं को भारत को सौंपने से दो उद्देश्य सिद्ध हुए हैै- प्रभावी संपर्क और बातचीत और सांस्कृतिक विरासत का प्रेलखन। इससे न केवल चोरी की वारदात को कम करने में सहायता मिलेगी बल्कि हमें साक्ष्य भी मिलेंगे जिनके बिना इस मामले का नतीजा कुछ और भी हो सकता था।

वक्तव्य में कहा गया कि भगवान राम, लक्ष्मण और माता सीता की मूर्तियों को ब्रिटिश पुलिस ने भारतीय उच्चायोग को सौंपा। इस अवसर पर पटेल ने ब्रिटिश पुलिस, तमिलनाडु सरकार, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण और लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग का आभार व्यक्त किया।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned