कोरोना वायरस का प्रकोप: रिची स्ट्रीट की रौनक फीकी

कोरोना वायरस के सक्रमण का साइड इफेक्ट्स परेशान करने वाले हैं।

चेन्नई.

कोरोना वायरस के सक्रमण का भले ही भारत में बहुत ज्यादा असर नहीं है, लेकिन उसके साइड इफेक्ट्स परेशान करने वाले हैं विशेषकर इलेक्ट्रोनिक्स आइटम्स का हब माने जाने वाला चेन्नई का रिची स्ट्रीट का हाल बेहाल है। कोरोना वायरस के चलते चीन से आने वाले मोबाइल पाट्र्स समेत अन्य इलेक्ट्रोनिक्स गैजेट्स की सप्लाई ठप हो गई है जिसके बाद यहां कई दुकानदारों का व्यापार प्रभावित हो गया है।

साथ ही चीन से भारत आयात किए जाने वाले इलेक्ट्रोनिक्स उपकरणों पर अब मोबाइल पार्ट्स और कम्प्यूटर सहित कई स्पेयर पाटर््स पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन की स्मार्टफोन कंपनी पाट्र्स की कीमतें बढ़ा सकती है। विदित हो वुहान शहर से चीन समेत दुनिया के कई देशों तक फैले कोरोना वायरस के चलते मोबाइल पाट्र्स समेत तमाम कंपनियां बंद हैं।

बंद है कई कंपनियां
चीन में कोरोना वायरस के चलते मोबाइल कंपोनेंट बनाने वाली फैक्ट्रियां काफी समय से बंद हैं। इससे भारत को आयात होने वाले कलपुर्जों की आपूर्ति पर असर पड़ रहा है। रिची स्ट्रीट में रोजाना ५० हजार से अधिक लोग आते है जिसमें मोबाइल, लैपटॉप और कम्प्यूटर सहित अन्य इलेक्ट्रॉनिक्स सामान की मरम्मत और खरीदारी करते है। एक खरीदार के अनुसार मोबाइल कंपनी शाओमी और एपल आईफोन जैसी कंपनियों के पाट्र्स का स्टॉक खत्म होने लगा है। इसकी वजह से जनवरी-मार्च तिमाही में स्मार्टफोन की बिक्री घटने के असार हैं।

छोटे-बड़े सभी प्रभावित
आम जनता ही नहीं बल्कि रिची स्ट्रीट में छोटे-बड़े व्यापारी प्रभावित हुए है, मौजूदा हालत को देखते हुए छोटे दुकानदार भी थोक में खरीदारी और बिक्री कर रहे हैं। लेकिन पिछले एक महीने से इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम्स के स्पेयर पाट्र्स चीन से आयात नहीं किए गए हैं, मंदी के कारण अधिकांश दुकानों में मंदी आ रही है। एक दुकानदार रामू ने बताया कि चीन में हालात चिंताजनक है।

कीमतों में आया उछाल
व्यापारियों के अनुसार पिछले महीने से चीन से इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम्स की सप्लाई प्रभावित हुई है जिस वजह से उत्पाद के दामों में उछाल आया है। दरअसल आपूर्ति प्रभावित होने के बाद मांग बढ़ी है जिस वजह से थोक व्यापारियों ने कीमतें बढ़ा दी है। हालांकि स्थिति को भांपते हुए कुछ दुकानदारों ने कीमतें बढ़ा दी है।

दुकानदारों को कहना है कि हालांकि कुछ कंपनियों के स्पेयर पार्ट्स भारत में बनते है लेकिन जिन मोबाइल और अन्य इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम्स के स्पेयर पार्ट्स नहीं बनते है उस स्थिति में बाजार प्रभावित हो सकता है। कोरोना वायरस के चलते भारत में कई कार मैन्युफैक्चरिंग कंपनियां भी उत्पादन रोक चुकी है। अब मोबाइल कंपनियों के पास भी पाट्र्स की कमी होने के चलते प्रोडक्शन प्रभावित हो रहा है।

coronavirus
PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned