बस स्टॉप बदला, न लाइट लगी न शेल्टर!

उत्तरी चेन्नई के पूझल स्थित जैन कोविल बस स्टॉप को हाल ही स्थानांतरित किया गया है। पहले यह बस स्टॉप पूझल सेंट्रल जेल के सामने यातायात सिग्नल के पास बना

By: मुकेश शर्मा

Published: 09 Dec 2017, 10:01 PM IST

चेन्नई।उत्तरी चेन्नई के पूझल स्थित जैन कोविल बस स्टॉप को हाल ही स्थानांतरित किया गया है। पहले यह बस स्टॉप पूझल सेंट्रल जेल के सामने यातायात सिग्नल के पास बना हुआ था, जिसके कारण यात्रियों को आवाजााही और बसों की प्रतीक्षा करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था। यहां बने बस शेल्टर पर ऑटो चालकों ने अतिक्रमण कर रखा था। जो खाली जगह थी वहां आवारा पशुओं का कब्जा होता था जिससे यात्रियों को वहां खड़े रहकर बस पकडऩे के लिए जद्दोजहद करनी पड़ती थी।

इस बस स्टॉप की दूसरी परेशानी थी इसके पास यातायात सिग्नल होना, जिसके चलते यहां आए दिन जाम की स्थिति बनी रहती थी। ऐसे में बसों को ठहरने में तकलीफ होती थी। इतना ही नहीं कई बार दुर्घटना भी हो जाती थी।

ऐसे में यात्रियों की शिकायत पर गौर करते हुए महानगर निगम ने इस बस स्टॉप को यहां से ईएसआई कार्यालय के समक्ष स्थानांतरित कर दिया। स्थानांतरण के बावजूद यात्रियों की परेशानी में कोई खास सुधार नहीं हुआ। उनका कहना है कि बस स्टॉप तो स्थानांतरित कर दिया गया लेकिन जो बुनियादी सुविधाएं नहीं जुटाई गई हैं। यहां न तो लाइट की व्यवस्था है और न ही यात्रियों के बैठने के लिए शेल्टर लगाया गया है।


शेल्टर लगना चाहिए था

यहां स्थानांतरण से पहले ग्रेटर चेन्नई कॉर्पोरेशन को शेल्टर और बेंचें लगाने के साथ ही लाइट की व्यवस्था करनी चाहिए थी जो नहीं की गई। इससे ऐसा लगता ही नहीं कि यहां बस स्टॉप है। बतादें कि जहां बसें रुकती हंै वहां वाटर ड्रेनेज टूटी हुई है। ड्रेनेज के कई ढक्कन गायब हैं और कई जगह लोहे के सरिये निकले हुए हैं, जिन पर अनजाने में पैर पडऩे से लोग घायल हो सकते हैं।संदेश, यात्री, पूझल

एक तरफा हो यातायात

बस स्टॉप तो स्थानांतरित कर दिया गया लेकिन यहां जारी दुतरफा यातायात को एकतरफा नहीं किया गया। महज २० फीट चौड़ी इस सर्विस रोड पर दुतरफ आवाजाही होने से अक्सर यात्रियों को बस पकडऩे में परेशानी हो रही है। यह समस्या पहले भी थी और अब भी है। मुनीश्वर सिंह, यात्री, पूझल


लाइटिंग की दरकार

जब बस स्टॉप स्थानांतरित कर दिया तो यहां शेल्टर और लाइटिंग की व्यवस्था भी करनी चाहिए थी। रात को यहां अंधेरे में यात्रियों को बसों के इंतजार के लिए अंधेरे में ही खड़े रहना पड़ता है। बिना लाइट के लोग कैसे बस का इंतजार कर पाएंगे। रात को यह जगह पूरी सुनसान होने के कारण सुरक्षा की दृष्टि से भी खतरनाक है।
अरुणागिरी. यात्री, शक्तिवेल नगर

विष्णुदेव मंडल

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned