मंदिर परिसर में लगी आग के बाद चेती सरकार

हिन्दू धर्म व देवस्थान विभाग (एचआरसीई) मंत्री सेवूर एस. रामचंद्रन ने शुक्रवार को कहा राज्य के मंदिरों में अग्नि सुरक्षा उपायों की पर्याप्तता की जांच क

By: मुकेश शर्मा

Published: 10 Feb 2018, 05:29 AM IST

चेन्नई।हिन्दू धर्म व देवस्थान विभाग (एचआरसीई) मंत्री सेवूर एस. रामचंद्रन ने शुक्रवार को कहा राज्य के मंदिरों में अग्नि सुरक्षा उपायों की पर्याप्तता की जांच के लिए एक समिति का गठन किया जाएगा।


मदुरै मीनाक्षी मंदिर और तिरुवल्लूर जिले के तिरुवलंकाडु में लगी आग के बाद मंत्री ने विभागीय बैठक बुलाई और स्थिति की समीक्षा की। तमिलनाडु में पांच हजार से अधिक मंदिर हैं। बैठक में मंदिरों के कार्यकारी अधिकारी, जोनल संयुक्त आयुक्तों के अलावा विभागीय आयुक्त आर. सरोजा, अपर आयुक्त एन. तिरुमगल और एम. कविता उपस्थित थी।

मंत्री ने कहा कि यह समिति राज्य के बड़े मंदिर परिसरों में मौजूद दुकानों का अवलोकन करेगी। समिति को यह करना है कि इन दुकानों की वजह से मंदिर को कितना खतरा है। सुरक्षा की दृष्टि से खतरनाक पाए जाने पर उन दुकानों को अन्यत्र अंतरित किया जाएगा। यह समिति मंदिर परिसर में विद्युतीकरण व्यवस्था, तारों की मजबूती, बिजली लाइन के हाल और अन्य पहलुओं का भी अवलोकन करेगी तथा जरूरी सुझाव देगी।


मंदिरों में घटनाएं

गौरतलब है कि कुछ महीने पहले राज्य के तिरुचेंदूर मंदिर का मंडप गिर गया था। २ फरवरी की रात मदुरै के मीनाक्षी मंदिर परिसर की दुकानें जल गई थी। इसी तरह सात फरवरी की शाम तिरुवलांकाडु मंदिर का आदिवृक्ष जल गया। लगातार मंदिरों में घट रही घटनाओं के बाद सरकार ने यह बैठक आहूत की।

आरोप का जवाब

देवस्थान विभाग द्वारा मंदिरों का सही प्रशासन नहीं करने के भाजपा नेताओं के आरोप पर मंत्री का जवाब था कि गत ७ सालों में मंदिरों की २६५३ एकड़ जमीन से अवैध कब्जा हटाया गया है। ये जमीनें कृषि भूमि, इमारतों और अप्रयुक्त भूमि के रूप में थी जिस पर लोग कब्जा जमाए बैठे थे। कब्जा मुक्त कराई गई जमीन की कीमत ३३०० करोड़ रुपए के बराबर है। उनको नहीं पता कि भाजपा नेताओं ने क्या प्रतिक्रिया दी है लेकिन उनका विभाग अच्छा कार्य कर रहा है।

मीनाक्षी मंदिर में बड़ी क्षति नहीं

सेवूर रामचंद्रन ने कहा कि पिछले शुक्रवार को मीनाक्षी अम्मन मंदिर परिसर में लगी आग से मंदिर को बड़ा नुकसान नहीं हुआ है। उन्होंने अग्निकांड के बाद मंदिर के प्रभावित इलाके का दौरा किया। मंदिर का भीतरी भाग आग लगने से अप्रभावित है और कोई क्षति नहीं हुई है। आग को तत्काल काबू में कर लिए जाने की वजह से अन्य इलाके इसकी चपेट में नहीं आए।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned