scriptChennai Book fair news | डिजिटल युग में बदल रही पाठकों की पसंद, चेन्नई बुक फेयर में दस दिन में 5 करोड़ की किताब बिकी | Patrika News

डिजिटल युग में बदल रही पाठकों की पसंद, चेन्नई बुक फेयर में दस दिन में 5 करोड़ की किताब बिकी

चेन्नई पुस्तक मेले में रिकॉड बिक्री

चेन्नई

Updated: March 04, 2022 02:30:37 pm

चेन्नई.

डिजिटल क्रांति के बावजूद पुस्तकें पढऩे वालों की संख्या में कमी नहीं आई, बल्कि इजाफा ही हुआ है। हर वर्ग और हर उम्र के लोग किताबें पढऩा चाह रहे हैं। यह बात अलग है कि अब उनकी पसंद परंपरागत साहित्य पुस्तकों से इतर रुचि और जरूरत के अनुरूप बदल गई है। इस बात का प्रमाण इस बात से लगाया जा सकता है कि नंदनम में शुरू हुए 45वें चेन्नई पुस्तक मेले के शुरूआती दस दिनों में 5-6 करोड़ रुपए की किताबें बिक चुकी है। संचालकों को उम्मीद है कि वे समापन तक 20 करोड़ के आंकड़ों को छू लेंगे।

Chennai Book fair news
Chennai Book fair news

दस दिन में 25 प्रतिशत राजस्व प्राप्त
बुकसेलर्स एंड पब्लिशर्स एसोसिएशन ऑफ साउथ इंडिया (बापसी ) के अध्यक्ष एस. वैरावन ने पुस्तक मेले में भीड़ सामान्य है, लेकिन किताबों में लोगों की रुचि बढ़ी है। हमनें 20 करोड़ का लक्ष्य रखा था, जिसमें उन्होंने 25 प्रतिशत हासिल कर लिया है। वर्ष 2003 में 22 स्टॉल से शुरू पुस्तक मेले से 6 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ था। इसके बाद बापसी ने वर्ष 2013 में 12 करोड का राजस्व जुटाया।

कोरोना महामारी से पहले वर्ष 2020 में राजस्व 20 करोड छू गया था। वहीं कोरोना महामारी के दौरान भी बापसी ने 12 करोड रुपए की किताबें बेची। वैरावन बताते हैं, पहले अगर मेला देखने 400 लोग आते थे तो उसमें से 20 लोग ही पुस्तकें खरीदते थे, जबकि आज यह संख्या एक सौ से अधिक है। इसके अलावा आज मेले में आने वाले पाठक एक बजट भी बनाकर चलते हैं।

हर वर्ग की पसंद अलग
एक लेखक तमिलमगन ने बताया कि तेजी से बढ़ते डिजिटल युग में आज भी प्रिंट का विशेष महत्व है। आज न केवल लोग पुस्तकें पढऩा चाह रहे हैं, बल्कि पुस्तकें खरीदना भी पसंद करने लगे हैं। पुस्तक मेले में जितनी भीड़ आ रही है, वह देखते ही बनती है।

यह बात अलग है कि आज का पाठक छोटी कहानियां या यूं कहें कि लघुकथा, सामयिक या चर्चित विषयों पर आधारित उपन्यास, शेरो शायरी, रोमांटिक या कटाक्ष करने वाली कविताएं, चर्चित हस्तियों से जुड़े विषयों सहित जरूरत के मुताबिक पुस्तकें पढऩा पसंद करता है। मसलन, योग, प्रबंधन, पाक कला, हास्य व्यंग्य, बच्चों की देखभाल, स्वास्थ्य, आयुर्वेद, फिल्मों, व्यक्तित्व विकास धार्मिक पुस्तकों के प्रति भी पाठकों का रूझान बढ़ा है।

उथल-पुथल के दौर में किताबों का संसार
बापसी के कार्यकारी समिति सदस्य ए. लोकनाथन भी इस सच्चाई से इंकार नहीं करते। वह कहते हैं, पुस्तकों की बिक्री भी बढ़ी है और पठन-पाठन संस्कृति भी। उन्हें डर था कि किताबें फैशन के बाहर हो गई है लेकिन पिछले 45 साल से पुस्तक मेले की सफलता इस बात का प्रमाण है कि अभी भी किताबों के दिवाने है। जहां तक पसंद का सवाल है तो वह समयानुसार बदलती ही रहती है। सुखद यह है कि पठन संस्कृति का विकास हो रहा है और लोग वापस इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स की चकाचौंध से निकलकर पढऩे का समय निकाल रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: अपनी पत्नी पर खूब प्रेम लुटाते हैं इस नाम के लड़केबगैर रिजर्वेशन कर सकेंगे ट्रेन में यात्रा, भारतीय रेलवे ने जारी की सूचीनाम ज्योतिष: इन 3 नाम की लड़कियां जहां जाती हैं वहां खुशियों और धन-धान्य के लगा देती हैं ढेरजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंधन के देवता कुबेर की इन 4 राशियों पर हमेशा रहती है कृपा, अच्छा बैंक बैलेंस बनाने में रहते है कामयाबआपके यहां रहता है किराएदार तो हो जाएं सावधान, दर्ज हो सकती है एफआईआर24 हजार साल ठंडी कब्र में दफन रहा फिर भी निकला जिंदा, बाहर आते ही बना दिए अपने क्लोनअंक ज्योतिष अनुसार इन 3 तारीख में जन्मे लोगों के पास खूब होती है जमीन-जायदाद

बड़ी खबरें

Uniform Civil Code: मोदी सरकार का अगला एजेंडा है समान नागरिक संहिता, उत्तरखंड से शुरुआत, राज्यों में मंथनभारत और बांग्लादेश के बीच 2 साल बाद फिर शुरू हुई ट्रेन, कोलकाता से हुई रवानाब्राजील में लैंडस्लाइड और बाढ़ से 31 की मौत, हजारों लोग हुए बेघरIPL 2022 के समापन समारोह में Ranveer Singh और AR Rahman बिखेरेंगे जलवा, जानिए क्या कुछ खास होगाभारत बन सकता है Vehicle Scrapping का हब, हर जिले में शुरू होंगे 2 से 3 व्हीकल स्क्रैपेज सेंटर : नितिन गडकरीMonkeypox Spreading Reason: मंकीपॉक्स के मरीज के कपड़े और टॉवल से भी फैल सकते हैं वायरस, जानिए कैसे करें बचावमुसलमानों के खिलाफ नफरत फैलाने वाले लोगों की रक्षा कर रही है बीजेपी सरकार: जमीयत उलमा-ए-हिंदनाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.