पर्यावरण सहेजने के लिए बना नगर वन, शहरी लोगों को मिलेगा वनों का अनुभव

महानगर में खिलेंगे वन मन होगा उपवन

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 23 Feb 2021, 07:12 PM IST

पुरुषोत्तम रेड्डी @ चेन्नई

कोरोना संकट के बीच दुनियाभर में पर्यावरण को सहेजने की मांग और तेज हुई है। खासकर शहरी क्षेत्रों में इसकी ज्यादा जरूरत समझी जा रही है, जहां जंगल और जैव-विविधता दोनों ही लगभग खत्म हो चुकी है। शहरी क्षेत्रों में बढ़ते प्रदूषण और सैर के लिए पार्कों की सीमित संख्या को देखते हुए ग्रेटर चेन्नई कॉर्पोरेशन ने महानगर में 30 'नगर वन' के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया है। लोग यहां न सिर्फ सुकून महसूस कर सकेंगे, बल्कि उनका वनों से लगाव भी बढ़ेगा। शुक्रवार को चेन्नई नगर निगमायुक्त जी. प्रकाश ने आलंदूर में नगर वन की शुरूआत की।

चेन्नई में बनेंगे 30 नगर वन
ग्रेटर चेन्नई कॉर्पोरेशन के क्षेत्रीय उपायुक्त (दक्षिण) डा. ऐल्बी जॉन वर्गीस ने बताया कि चेन्नई में अबतक तीन नगर वन की शुरूआत की हुई है। शुक्रवार को आलंदूर नगर वन की शुरूआत हुई। इससे पहले कोटुरपुरम और वलसरवाक्कम में नगर वन की शुरूआत हो चुकी है। इसके बाद पूलीयंतोप और अण्णा नगर में नगर वन स्थापित होंगे। यह योजना नगर निकायों, गैर सरकारी संगठनों तथा स्थानीय नागरिकों के बीच भागीदारी और सहयोग पर आधारित होगी।

केन्द्र सरकार की नगर वन योजना
बढ़ते शहरीकरण को देखते हुए केंद्र सरकार ने शहरी क्षेत्रों में भी जैव-विविधता संरक्षण के लिए शहरों में वन विकसित करने का निर्णय लिया था। नगर वन योजना में शर्त थी कि नगरीय निकाय सीमा में 10 से 50 हेक्टेयर के बीच रिजर्व फारेस्ट की जमीन होनी चाहिए। योजना के तहत पांच सालों में देशभर में दो सौ नगर वन विकसित किए जाने थे। प्रशासन की योजना नगर वन में पौधों की स्थानीय प्रजातियों को सहेजने और एक मनोरम पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की थी। ताकि इसे ऐसा बनाया जाए शहरी क्षेत्र में लोगों को जंगल का अहसास हो सके। यहां पौधारोपण के साथ जॉगिंग ट्रैक, साइकिल ट्रैक व ओपेन जिम व तरह-तरह की वाटिकाएं बनाने की बात कही गई थी।


56972402.jpg

 

पर्यावरण के लिहाज से ठीक
नॉर्थ चेन्नई में पर्यावरण के लिए काम करने वाले सुभाष का कहना है कि नगर वन बनने से शहर के लोगों के लिए शहर में एक वन के रूप में पार्क उपलब्ध हो जाएगा, और यह पर्यावरण के लिहाज से भी ठीक है। इस पार्क में लोगों के बैठने, टहलने से लेकर तमाम तरह की सुविधाएं बहाल करने की योजना है। शहर के लोग यहां हरा-भरा वातावरण का आनंद उठा सकेंगे। उन्होंने कहा कि नगर निगम के निर्देश के बाद चेन्नई के लोगों को मनोरंजन के साथ-साथ स्वास्थ्य के प्रति भी अच्छी सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। महानगर में घूमने के लिए सीमित जगहें हैं, लेकिन अब हम इस दिशा में कार्य कर रहे हैं और नगर वन के लिए स्थान उपलब्ध करा रहे हैं।

योजना का महत्व
समय के साथ बढ़ती जनसंख्या, वनों की कटाई, शहरीकरण और औद्योगीकरण ने प्राकृतिक संसाधनों पर भारी दबाव डाल दिया है, जिससे जैव विविधता की निरंतर हानि हो रही है। नगर वन योजना इस अंतर को खत्म करने का एक बेहतर तरीका है। इसलिए मंत्रालय द्वारा भी शहरी क्षेत्रों में जैव विविधता के प्रोत्साहन और संरक्षण के लिए ‘नगर वन’ को विश्व पर्यावरण-2020 की थीम के रूप में अपनाया गया है।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned