Chennai: पुलिस आयुक्त ने देवदूत बनकर कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाकर बचाई जान

- ऑक्सीजन खत्म होने के डर से अटकी सांसे

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 13 May 2021, 08:40 PM IST

चेन्नई.

चेन्नई में प्राइवेट अस्पतालों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं मिल पा रहा है। ऑक्सीजन की कमी से फिर मरीजों की जान पर बन आई। वो तो भला हो पुलिस वालों को, सूचना मिलते ही सक्रिय हो गए और आनन-फानन में अस्पताल में सिलेंडर की वैकल्पिक व्यवस्था कराई।

बुधवार को ऑक्सीजन के लिए चल रही मारामारी के बीच विल्लीवाक्कम के सहायक पुलिस आयुक्त स्टीफन देवदूत बनकर अस्पताल में भर्ती कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराया, जिसके बाद 15 कोरोना मरीजों की जान बचाई जा सकी। मरीज के साथ-साथ उनके रिश्तेदारों ने भी चैन की सांस ली और सहायक पुलिस आयुक्त स्टीफन के कार्य की सराहना की।

जानकारी के अनुसार कोलत्तूर रेडहिल्स हाईरोड पर प्राइवेट हॉस्पिटल में कोविड के 12-15 मरीज भर्ती हैं। इसमें अधिकांश हाई फ्लो ऑक्सीजन सप्लाई में है लेकिन बुधवार को अस्पताल प्रबंधन ने मरीजों के परिजनों को उन्हें दूसरे अस्पताल में शिफ्ट करने को कहा, क्योंकि अस्पताल में ऑक्सीजन का स्तर लगातार कम हो रहा था। अस्पताल प्रबंधन के इस निर्णय के बाद मरीजों के परिजनों में हडकंप मच गया और अस्पताल परिसर में अफरा-तफरी का माहौल बन गया।

इस बीच कोलत्तूर पुलिस थाना के खुफिया विभाग के कांस्टेबल को इस बाबत जानकारी हुई और उसने विल्लीवाक्कम सहायक पुलिस आयुक्त स्टीफन को इसकी जानकारी दी। पुलिस को पता चला कि अस्पताल में कुछ ही घंटे की ही ऑक्सीजन बची है।

सूचना मिलते ही सहायक पुलिस आयुक्त और उनकी टीम हरकत में आ गई। उनकी टीम ने इलाके में ऑक्सीजन सप्लाई करने वाले कंपनी का पता लगाया और वे मनली स्थित आइनोस एयर प्रोडेक्ट्स नामक कंपनी पहुंचे, जहां उन्होंने कंपनी के मालिक को ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत बताई और कंपनी से 20 ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर अस्पताल पहुंचाया, जिसके बाद कोरोना मरीजों का इलाज चल रहा है।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned