नीट के संबंध में स्टालिन ने 12 राज्यों के मुख्यमंत्रियों को लिखा पत्र

राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) को रद्द करने की अपनी मांग को लेकर केंद्र सरकार पर दबाव बनाते हुए

By: Vishal Kesharwani

Published: 04 Oct 2021, 06:55 PM IST


-एकजुट होकर विरोध करने का किया आग्रह
ेचेन्नई. राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) को रद्द करने की अपनी मांग को लेकर केंद्र सरकार पर दबाव बनाते हुए मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने सोमवार को 12 राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिख सभी से शिक्षा में राज्यों के अधिकारों को पुन: प्राप्त करने के लिए संयुक्त प्रयास करने का आग्रह किया। अपने पत्र में उन्होंने कहा न्यायाधीश एके राजन की कमेटी द्वारा पेश किए गए रिपोर्ट के आधार पर हाल ही में विधानसभा में नीट के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित कर केंद्र से इसे रद्द करने की मांग की गई थी।

 

नीट को लागू करने का केंद्र सरकार का फैसला संघवाद के खिलाफ है और यह राज्यों के अधिकारों को छीनने के बराबर है। ऐसी परिस्थिति में सभी मुख्यमंत्रियों को एकजुट होकर इसका विरोध करना चाहिए। स्टालिन ने कहा कि डीएमके सांसद व्यक्तिगत रूप में विभिन्न राज्य के मुख्यमंत्रियों से मुलाकात करेंगे। मुख्यमंत्री द्वारा लिखे गए पत्र को आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, झारखंड, केरल, महाराष्ट्र, ओडि़सा, पंजाब, राजस्थान, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और गोवा के मुख्यमंत्रियों को भेजा गया। उन्होंने मुख्यमंत्रियों से इस मामले में अपना समर्थन देने का आग्रह किया, ताकि संबंधित राज्यों के छात्र, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्र के छात्रों की समस्या दूर हो सके। उन्होंने पत्र के साथ एके राजन समिति की रिपोर्ट भी संलग्र की, जिसमें मेडिकल प्रवेश पर नीट के प्रभाव का अध्ययन किया गया है। उन्होंने कहा कि इस पत्र और रिपोर्ट को सभी अच्छे से पढ़े और उसके आधार पर सहयोग प्रदान करें।

 


डीएमके सूत्रों ने बताया कि स्टालिन गैर भाजपा मुख्यमंत्रियों के बीच समन्वय लाने और परीक्षा को रद्द करने की कोशिश कर रहे हैं। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने पहले ही इस संबंध में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन और महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे से बात कर समर्थन की मांग की थी। स्टालिन ने हाल ही में विधानसभा में एक विधेयक पेश किया था जिसमें राज्य के लिए नीट परीक्षा से स्थाई छूट की मांग की गई थी।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned