संक्रमित लोगों के संपर्क वाले मामले ही पॉजिटिव : विजय भास्कर

- बढ़ाया जा रहा जांच का दायरा, - मृत्युदर 1.1 प्रतिशत

By: P S Kumar

Published: 18 Apr 2020, 09:33 PM IST

चेन्नई.

तमिलनाडु के लिए शनिवार इसलिए सुखद रहा कि कोरोना संक्रमण से किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई। दूसरी बड़ी बात यह रही कि जहां इस रोग के ४९ पॉजिटिव मामले सामने आए तो डिस्चार्ज होने वालों की संख्या ८२ रही। अब तक अस्पतालों से इलाज के बाद ३६५ मरीज छूट चुके हैं। रेपिड टेस्ट किट से जांच की प्रक्रिया तेज कर दी गई है। स्वास्थ्य मंत्री विजय भास्कर का दावा है कि तमिलनाडु में कोरोना की मृत्यु दर १.१ प्रतिशत है जो राष्ट्रीय औसत ३.३ के मुकाबले एक तिहाई है।

स्वास्थ्य मंत्री ने शनिवार को पत्रकारों से वार्ता में कहा कि पिछले दो-तीन दिनों में पॉजिटिव मामलों की तुलना में डिस्चार्ज होने वाले रोगियों की संख्या अधिक है। देश में सर्वाधिक टेस्टिंग लैब तमिलनाडु में है। अधिक संख्या में ठीक हुए रोगी भी तमिलनाडु से हैं। सही उपचार की वजह से मृत्यु दर केवल १.१ प्रतिशत है। शुरुआत में प्रतिदिन १००० सैम्पल लिए जा रहे थे जो अब ५३३३ है।

रेपिड टेस्ट किट
मंत्री ने जानकारी दी कि रेपिड टेस्ट किट से जांच शुरू कर दी गई है लेकिन इसके परिणाम संकेत मात्र होते हैं। पूर्ण जांच पीसीआर किट से ही होगी। सभी जिलों को फिलहाल रेपिड टेस्ट किट भेज दिए गए हैं। आइसीएमआर के निर्देशों के तहत एसएआरआइ जांच, सामान्य ज्वर व कफ जांच, ७ दिनों के बाद पुन:जांच और आवश्यक होने पर आगे की जांच कराई जा रही है।

सामुदायिक संक्रमण
राज्य में सामुदायिक संक्रमण नहीं होने का इशारा देते हुए विजय भास्कर ने कहा कि हमारे सामने जितने पॉजिटिव मामले आए हैं वे पहले से ही संक्रमित लोगों के संपर्क में आने से जुड़े हैं। अब हमने जांच का दायरा आगे बढ़ाया है और बुखार व कफ के लक्षण वालों की भी जांच की जा रही है। श्वसन संंबंधी तकलीफ वाले मरीजों की तुरंत जांच की जाती है। चिकित्सा परामर्श के लिए १९ विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम बनाई गई है।

प्लाज्मा थैरेपी
उपचार से ठीक हुए रोगियों के रुधिर के प्लाज्मा का उपयोग कर इलाज करने के लिए हमने केंद्र सरकार से अनुमति मांगी थी। हमें दो में एक अनुमति मिली है। दूसरी अनुमति मिलने के साथ प्लाज्मा थैरेपी से उपचार शुरू कर दिया जाएगा। राज्य में १ लाख पीसीआर किट आ चुके हैं। केंद्र व टाटा समूह से ६० हजार किट मिले हैं।

रेपिड टेस्ट किट 600 में खरीदे
तमिलनाडु में रेपिड टेस्ट किट ६०० रुपए की दर से खरीदे गए हैं। प्रमुख प्रतिपक्षी दल डीएमके के रेपिड टेस्ट किट की कीमत को लेकर पूछे गए प्रश्न का तमिलनाडु चिकित्सा सेवा निगम के प्रबंध निदेशक उमानाथ ने जवाब दिया। उनका कहना था कि केंद्र सरकार ने जिन फर्मों से खरीद की सूची जारी की थी और जो दाम तय किए थे उसी पर खरीद की गई है। प्रबंध निदेशक ने मीडिया को तत्संबंधी दस्तावेज दिखाए।

P S Kumar Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned