स्कूल खोलने से ज्यादा जरूरी विद्यार्थियों की जिन्दगी

केंद्र सरकार ने 15 अक्टूबर से स्कूल, कॉलेज व शिक्षण संस्थान खोलने की अनुमति देते हुए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। साथ ही कहा है कि शिक्षण संस्थानों के संबंध अंतिम निर्णय राज्य सरकारों का होगा। स्कूल शिक्षा मंत्री के. ए. सेंगोट्टयन का कहना है कि तमिलनाडु में स्कूलें खोलने से ज्यादा जरूरी विद्यार्थियों की जिन्दगी की सुरक्षा है।

By: MAGAN DARMOLA

Published: 06 Oct 2020, 08:48 PM IST

चेन्नई. स्कूल शिक्षा मंत्री के. ए. सेंगोट्टयन का कहना है कि तमिलनाडु में स्कूलें खोलने से ज्यादा जरूरी विद्यार्थियों की जिन्दगी की सुरक्षा है। केंद्र सरकार ने १५ अक्टूबर से स्कूल, कॉलेज व शिक्षण संस्थान खोलने की अनुमति देते हुए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। साथ ही कहा है कि शिक्षण संस्थानों के संबंध अंतिम निर्णय राज्य सरकारों का होगा।

इस निर्देश की पृष्ठभूमि में स्कूल शिक्षा मंत्री ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों से मंगलवार को चर्चा की। बैठक के बाद पत्रकारों से वार्ता में सेंगोट्टयन ने कहा कि स्कूल खोलने का अंतिम निर्णय सीएम पलनीस्वामी लेंगे। फिलहाल जो हालात हैं उनमें स्कूलें खोलने से ज्यादा विद्यार्थियों की हिफाजत पर ध्यान देना जरूरी है।

उन्होंने कहा, राज्य में सात महीनों से स्कूलें बंद हैं। स्कूल खोलने को लेकर स्थानीय प्रशासन विभाग तैयारी कर रहा है ताकि उचित समय पर कक्षाएं शुरू की जा सके। गौरतलब है कि राज्य में १० से १२वीं कक्षा के विद्यार्थियों की कक्षाएं शुरू करने के लिए जारी शासनादेश को मुख्यमंत्री ने स्थगित कर दिया था। इस बारे में अंतिम निर्णय अभी नहीं हुआ है कि कब से कक्षाएं शुरू की जाएंगी।

COVID-19 virus
Show More
MAGAN DARMOLA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned