Chennai Drone की मदद से विसंक्रमण शुरू

Greater Chennai Corporation की पहल

रोजाना 50000 वर्गमीटर में होगा छिडक़ाव


चेन्नई. ग्रेटर चेन्नई कार्पोरेशन ने अण्णा विश्वविद्यालय की मदद से कोरोना संक्रमण को रोकने के उद्देश्य से विसंक्रमण की प्रक्रिया के लिए गुरुवार को ड्रोन का उपयोग किया। इन ड्रोन का उपयोग महानगर के उन इलाकों में किया जाएगा जहां पहुंचना दुष्कर है।


महापालिका आयुक्त जी. प्रकाश ने रिपन बिल्डिंग में इस सुविधा की शुरुआत करते हुए कहा का प्रतिदिन ड्रोन की मदद से ५० हजार वर्ग मीटर इलाके का नि:संक्रमण होगा। हमारे पास महानगर को विसंक्रमित करने के लिए ४ ड्रोन है। अण्णा विश्वविद्यालय द्वारा निर्मित इन ड्रोन की ट्रायल हो चुकी है। सघन और खचाखच बसावट वाले इलाकों में इन ड्रोन का उपयोग होगा। साथ ही बड़ी मंडियों व बाजारों में भी ड्रोन से कीटाणुनाशक दवा का छिडक़ाव किया जाएगा।


१२०० कच्ची बस्तियां
उनके अनुसार कार्पोरेशन की योजना कुछ एजेंसियों से ड्रोन खरीदने की है ताकि विसंक्रमण के अभियान को त्वरित गति से चलाया जा सके। कार्पोरेशन के सामने चुनौती १२०० कच्ची बस्तियों को डिस्इंफेक्ट करने की है जो काफी तंग और सकरी है इसके अलावा महानगर और इसकी परिधि में ४०० बाजार है जिनका भी विसंक्रमण होना है। कार्पोरेशन ने इस अभियान में ५०० वाहनों को लगा रखा है। ७५ गाडिय़ों के माध्यम से रोजाना सार्वजनिक इमारतों व भवनों को डिस्इंफेक्ट किया जा रहा है। लेकिन जॉर्ज टाउन, चिंताद्रीपेट, मईलापुर और ट्रिप्लीकेन जैसे सिकुड़े इलाकों को विसंक्रमित करने के लिए अधिक ड्रोन की आवश्यकता होगी।


खेतों के लिए ईजाद
ड्रोन बनाने वाली टीम के एक छात्र ने बताया कि खेतों में कीटनाशक के छिडक़ाव के लिए इसे बनाया गया था। ५ हजार वर्गमीटर यानी करीब एक एकड़ के क्षेत्र तक कीटनाशक का इससे छिडक़ाव किया जा सकता है। ड्रोन की भराव क्षमता १६ लीटर कीटनाशक दवा की है जो कि ५० माइक्रोन स्तर के है। चीन के वुहान में भी इसी तरह विसंक्रमण की प्रक्रिया को पूरा किया गया था।


फंसे यात्रियों की मदद
लॉक डाउन की वजह से फंसे हुए यात्रियों को कार्पोरेशन की स्कूलों व आश्रय गृहों में ठहराया गया है। अधिकारी इन यात्रियों को भोजन-पानी और अन्य जरूरी वस्तुएं उपलब्ध करा रहे हैं। घरों में अलगाव किए गए परिवारों की भी पूरी मदद की जाएगी। कर्मचारियों को निर्देश दिया गया है कि ऐसे परिवारों के आसपास के इलाके को डिस्इंफेक्ट किया जाए।
जी. प्रकाश, आयुक्त गे्रटर चेन्नई कार्पोरेशन

Corona virus
P S Kumar Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned