तमिलनाडु में नौ लोगों में ब्लैक फंगस की पुष्टि

तमिलनाडु में नौ लोगों में ब्लैग फंगस की पुष्टि, समीक्षा के लिए बनाई समिति
- संक्रमण के चलते किसी की मौत नहीं

By: Ashok Rajpurohit

Published: 20 May 2021, 10:13 PM IST

चेन्नई. तमिलनाडु के स्वास्थ्य सचिव जे राधाकृष्णन ने गुरुवार को कहा कि तमिलनाडु जल्द ही म्यूकोर्मिकोसिस (ब्लैक फंगस) को महामारी के रूप में अधिसूचित करेगा और संक्रमण की समीक्षा के लिए डीन और डीपीएच के साथ एक समिति बनाई गई है। स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि नौ लोगों की पहचान ब्लैग फंगस के रूप में हुई है, लेकिन संक्रमण के कारण अब तक किसी की मौत नहीं हुई है।
स्वास्थ्य सचिव ने कहा, नौ में से सात रोगी मधुमेह के हैं जबकि शेष दो रोगियों को मधुमेह नहीं है। कुछ की आंखों में संक्रमण है और सभी का इलाज शुरू कर दिया गया है। अब तक किसी की मौत की खबर नहीं है। स्वास्थ्य सचिव ने कहा, एक नोटिफाइड बीमारी का मतलब है कि अगर किसी निजी / सरकारी अस्पताल में किसी मरीज में संक्रमण की पहचान की जाती है तो संस्था को सरकार को सूचित करना चाहिए। राधाकृष्णन ने कहा कि यह संक्रमण कोविड -19 संक्रमण से पहले भी मौजूद था और जनता को घबराने की जरूरत नहीं है।
न डरें ब्लैक फंगस से
लोगों को ब्लैग फंगस से डरना नहीं चाहिए। यह एक फंगल संक्रमण है और यह कोविड-19 से पहले भी मौजूद था। संक्रमण मधुमेह के रोगियों लगातार स्टेरॉयड लेने वाले रोगियों या कई दिनों तक आईसीयू में निगरानी रखने वालों, प्रत्यारोपण रोगियों या कुछ उपचारों से गुजरने वाले रोगियों को प्रभावित करता है। महाराष्ट्र और राजस्थान जैसे राज्य ऐसे मामले अधिक सामने आए है। इसलिए संक्रमण को ध्यान में रखते हुए तमिलनाडु के सीएम इसे महामारी घोषित करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि, ब्लैग फंगस इलाज योग्य है और हमने बीमारी की समीक्षा के लिए डीपीएच के तहत डीन के साथ एक समिति शुरू की है। हमने इसके इलाज के लिए और अधिक एम्फोटेरिसिन दवाओं की आपूर्ति करने के लिए तमिलनाडु मेडिकल सर्विस कॉरपोरेशन को भी ऑर्डर दिया है।

COVID-19 virus
Ashok Rajpurohit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned