Tamilnadu: इस बार इंजीनियरिंग कॉलेजों में कट-ऑफ बढऩे की संभावना


- विज्ञान वर्ग में 90 फीसदी लाने वाले 15 गुणा बढ़े
- वैटेज सिस्टम के चलते हुए ऐसा
- छात्र राहत महसूस कर रहे

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 21 Jul 2021, 05:58 PM IST

चेन्नई.

विशेषज्ञों का कहना है कि इस साल इंजीनियरिंग प्रवेश के लिए कट-ऑफ 5 अंकों से 25 अंक तक बढऩे की संभावना है। इसका कारण बारहवीं कक्षा के विज्ञान वर्ग में 90 फीसदी से ऊपर अंक लाने वाले छात्रों की संख्या में 15 गुना वृद्धि होना है।

पिछले साल साइंस स्ट्रीम के 1,867 छात्रों ने 551 से ऊपर अंक हासिल किए थे। इस साल वेटेज सिस्टम के कारण यह बढक़र 30,600 हो गई। कॉमर्स स्ट्रीम में पिछले साल के 4,437 के मुकाबले 551-600 रेंज में 8,909 छात्र थे। 551-600 अंक सीमा में व्यावसायिक स्ट्रीम के छात्रों की संख्या भी 50 से 136 तक दोगुनी से अधिक हो गई।

एक करियर काउंसलर ने कहा, विभिन्न स्लैब के लिए कट-ऑफ में भिन्नता अलग-अलग होगी। 190 और उससे अधिक के लिए कट-ऑफ में 5-7 अंकों की वृद्धि हो सकती है, जबकि 180 अंकों और उससे अधिक के लिए यह लगभग 15 अंकों की वृद्धि होगी क्योंकि इस वर्ष 170-185 कट-ऑफ रेंज में बहुत सारे छात्र होंगे। 150 अंकों और उससे अधिक की सीमा में कट-ऑफ 25 अंकों तक बढ़ सकता है क्योंकि बहुत कम 400 से नीचे स्कोर करते हैं। 1990 अंकों वाले छात्र को पिछले साल 3,445 की तुलना में 9,000 से ऊपर रैंक मिल सकती है और 180 कट-ऑफ वाले छात्र पिछले साल 9,190 की तुलना में 22,000 से ऊपर रैंक प्राप्त कर सकते हैं।

कड़ा मुकाबला होगा बीकॉम के लिए भी

बी कॉम सीटों के लिए मुकाबला भी कड़ा होगा। पिछले साल की तुलना में 550 से अधिक अंक प्राप्त करने वाले वाणिज्य छात्रों की संख्या दोगुनी हो गई है। अधिक छात्र शीर्ष कॉलेजों में बीकॉम सीटें चाहते हैं। छात्रों में राहत साफ नजर आ रही है। चेन्नई की एक स्कूल की प्राचार्य ने कहा, 112 छात्रों में से 102 ने 500 से अधिक अंक प्राप्त किए, जिसमें 75 ने 550 से ऊपर अंक प्राप्त किए। पिछले साल हमारे पास कई सेंटम थे। इस साल किसी को भी पूर्ण अंक नहीं मिले।

औसत प्रदर्शन में हुआ सुधार

एक अन्य स्कूल के प्राचार्य ने कहा, जहां 146 में से 96 छात्रों ने 80 फीसदी से अधिक अंक प्राप्त किए। तांबरम की एक स्कूल के प्राचार्य ने कहा कि हालांकि औसत प्रदर्शन में सुधार हुआ है, लेकिन टॉप रैंकर्स निराश हैं क्योंकि वे वेटेज सिस्टम के कारण अधिक अंक प्राप्त नहीं कर सके। इस साल यह कड़ी प्रतिस्पर्धा होगी क्योंकि सरकारी और सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों के बच्चों ने समान रूप से अच्छा प्रदर्शन किया है। अशोक नगर स्थित एक स्कूल में 600 छात्रों में से 150 ने 500 से अधिक अंक प्राप्त किए।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned