CycloneVardah: चेन्नई में 190 KMPH चली हवाएं, 7 की मौत 

समुद्री चक्रवात वरदा के चेतावनी के चलते तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में हाई अर्लट घोषित किया गया है। 

नई दिल्ली/ चेन्नई। चक्रवाती तूफान वरदा की वजह से तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों में भारी बारिश हो रही है। बंगाल की खाड़ी में बना चक्रवात तेजी से तमिलनाडु के तट पर पहुंच गया है। तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों में 150 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से तेज हवाएं चल रही हैं। भारी बारिश भी हो रही है। कई पेड़ जमीन से उखड़ गए। 7 लोगों की मौत हुई है। चेन्नई एयरपोर्ट की 25 फ्लाइट्स को रद्द कर दिया गया है जबकि 31 लेट हैं। जन जीवन पर काफी असर पड़ा है। सात हजार लोगों ने कैम्पों में शरण लिया है। हालांकि अभी किसी बड़े नुकसान की आधिकारिक खबर नहीं मिली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेवी और दूसरी एजेंसियों को हालत पर लगातार नजर बनाए रखने की हिदायद दी है।
 

दोपहर तट से टकराया चक्रवात 
चक्रवात सोमवार को दोपहर 2.15 बजे चेन्नई में जमीन की सतह से टकराया। 190 kmph तक तेज हवाएं चली थीं। कई पेड़ जमीन से उखड़ गए। तमिलनाडु सरकार के मुताबिक़ 9 हजार से ज्यादा लोगों को 54 राहत शिविरों में पहुंचाया गया है। 

चेन्नई एयरपोर्ट बंद 
तटीय इलाकों में दोपहर 1 से 4 बजे तक घरों से बाहर नहीं निकलने का अलर्ट है। चक्रवात की वजह से चेन्नई एयरपोर्ट 3 बजे तक बंद है। कई उड़ाने कैंसल करनी पडी। उधर, चक्रवात की वजह से चेन्नई में कई जगह सड़कों पर जाम जैसी स्थिति बन गई।

अगली नोटिस तक रोकी गईं रेल सेवाएं 
रेलवे के एडीजी (पीआर) ने बताया कि चक्रवात की वजह से अगली नोटिस तक चेन्नई रेल नेटवर्क को सस्पेंड किया गया है। चेन्नई आने वाली कई ट्रेनों का रूट बदला गया है जबकि कई को कैंसल कर दिया गया।

 
चेन्नई में हवा की स्पीड 192 Km/hour
चेन्नई में हवा की स्पीड सबसे तेज थी। मौसम विभाग के एडीजी एम महापात्रा ने बताया, चेन्नई में 192 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से हवाएं चलीं। बाद में हवाओं की स्पीड 100-110 किमी प्रति घंटे के बीच थी। 

  

चक्रवात से निपटने के लिए इस तरह की गई है तैयारी 
आंध्र के विजयवाड़ा में एक कंट्रोल रूम बनाया गया है। एनडीआरएफ की 15 से ज्यादा टीमें दोनों राज्यों में मुस्तैद हैं। दोनों राज्यों के कई जिलों में स्कूल बंद कर दिए गए हैं। चक्रवात तबाही मचा सकता है। 


पाकिस्तान ने दिया है चक्रवात को नाम 
तटीय इलाकों में लोगों को घरों के अंदर रहने को कहा गया है। समुद्री चक्रवात को पाकिस्तान ने वरदा नाम दिया है। उर्दू में इसका मतलब होता है, "गुलाब"। 


हालात से निपटने के लिए एनडीआरएफ अलर्ट ?
- अराकोणम और गुंटूर में एनडीआरएफ टीमों को अलर्ट पर रखा गया है। ऐसा तत्काल जरूरत पर उनके इस्तेमाल के लिए है। 
जरूरत पड़ने पर उन्हें तत्काल भेजा जा सके।
-  दोनों राज्यों की सरकारें, भारतीय मौसम विभाग और अन्य राहत एजेंसियों के लगातार संपर्क में हैं। एनडीआरएफ की हर टीम में करीब 45 कर्मी हैं। 
- चक्रवात के कारण किसी भी अपात स्थिति से निपटने के लिए ये बचाव उपकरणों और नौकाओं से लैस हैं।

कहां हो रही है तेज बारिश ?
तमिलनाडु के चेन्नई, तिरूवल्लूर और कांचीपुरम जिलों में सुबह से ही भारी बारिश हो रही है। इन क्षेत्रों के कई हिस्सों में सुरक्षात्मक उपाय के तहत बिजली आपूर्ति स्थगित की गई है।

एनडीआरएफ की कितनी टीमें कहां तैनात हैं? 
एनडीआरएफ चीफ आरके पचनंदा ने बताया कि आठ टीमें पहले ही तमिलनाडु के और सात टीमें आंध्र प्रदेश में तैनात हैं। कुछ टीमें दूसरे आसपास के इलाकों में नजर बनाए हुए हैं।





80 से 90 घंटे की रफ्तार से चलेंगी हवाएं, होगी भारी बारिश
- बंगाल की खाड़ी से लगे समूचे आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु में अलर्ट जारी कर दिया गया है। वरदा रविवार को दोपहर ढाई बजे चेन्नई से 330 किलोमीटर पूर्व में था। 
- यह दोपहर उत्तर तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र प्रदेश को अपनी चपेट में लेने से पहले पश्चिम की ओर बढ़ेगा।‘एरिया साइक्लोन वार्निंग सेंटर’ के निदेशक एस बालचंद्रन का कहना है कि  कई जिलों में भारी बारिश होगी।
-  80 से 90 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं बह सकती हैं। मछुआरों को अगले 48 घंटों में समंदर में नहीं उतरने को कहा गया है।


सशस्त्र बलों को भी तैयार रहने का निर्देश
- तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेलवम ने एनडीआरएफ के साथ बैठक की है। इसमें तूफान की भयंकर चेतावनी, बारिश व तूफान के मद्देनजर सशस्त्र बलों को तैयार रहने के लिए कहा गया है।

चार जिलों में स्कूल- कॉलेज बंद
- तमिलनाडु में विल्लपुरम के तटीय तालुकों के अलावा चेन्नई, कांचीपुरम और तिरूवल्लूर में स्कूल-कॉलेज बंद की घोषणा की गई है।


Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned