अस्पताल में प्रसव के बाद मां व बच्चे की मौत

विधायक गांधी व वालिका तहसीलदार भाग्यनाथन भी अस्पताल पहुंचे व परिजनों से बातचीत कर प्रदर्शन हटाने को कहा। स्वास्थ्यकर्मी शवों को वालाजा राजकीय अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए एम्बुलेंस में चढ़ाने का प्रयास किया लेकिन भीड़ ने उनको भी रोक दिया।

By: Dhannalal Sharma

Published: 30 Sep 2020, 09:19 AM IST

रानीपेट. यहां प्रारंभिक राजकीय अस्पताल में सोमवार तड़के प्रसव के लिए भर्ती हुई एक गर्भवती युवती ने एक बच्चे को जन्म दिया। जन्म के कुछ मिनट बाद ही बच्चे की मृत्यु हो गई और युवती की भी अचानक तबीयत खराब हो गई, सुबह सात बजे उसने भी दम तोड़ दिया। जच्चा-बच्चा की मृत्यु की जानकारी मिलते ही परिजनों समेत करीब 100 से भी अधिक लोग अस्पताल के सामने जमा हो गए और डाक्टर के बिना दो नर्सों द्वारा किए गए गलत इलाज के कारण मां व बच्चे की मृत्यु हो जाने का आरोप लगा कर प्रदर्शन शुरू कर दिया। प्रदर्शन की जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस निरीक्षक तिरनाकरसु पहुंचे और प्रदर्शनकारियों को समझाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने और शवों को अस्पताल के मुख्य द्वार पर रखकर बैठ गए।

पोस्टमार्टम के लिए भी नहीं ले जाने दिया
जानकारी मिलते विधायक गांधी व वालिका तहसीलदार भाग्यनाथन भी अस्पताल पहुंचे व परिजनों से बातचीत कर प्रदर्शन हटाने को कहा। स्वास्थ्यकर्मी शवों को वालाजा राजकीय अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए एम्बुलेंस में चढ़ाने का प्रयास किया लेकिन भीड़ ने उनको भी रोक दिया। प्रदर्शन करीब दो घंटे तक जारी रहा। मृतका रानीपेट की अम्मन कोविल गली निवासी गणेशन की पत्नी अर्चना (20) थी। पुलिस ने जब अस्पताल प्रशासन पर इस संबंध में जांच करने व कार्रवाई करने का आश्वासन दिया तब लोग वहां से हटे।

Dhannalal Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned