वह सुबह याद कर आज भी सिहर जाते हैं लोग...

वह सुबह याद कर आज भी सिहर जाते हैं लोग
- सुनामी की त्रासदी को भूल नहीं पाए हैं

 



By: Ashok Rajpurohit

Published: 26 Dec 2020, 12:35 PM IST

चेन्नई. 26 दिसंबर 2004 की वह सुबह आज भी लोग भूल नहीं पाए है। अकेले तमिलनाडु के नागपट्टिनम में सुनामी के कारण 6000 से ज्यादा लोग मारे गए थे। यह इलाका सबसे अधिक प्रभावित इलाकों में से एक माना जाता है। यहां के मछुआरा समुदाय जिस तरह इस आपदा के शिकार हुए वो आज डेढ दशक से अधिक बीत जाने के बाद भी उस त्रासदी की भयावहता को नहीं भूल पाते और अपनो को याद करने लगते हैं।
इस सुनामी नामक प्राकृतिक आपदा ने ढाई लाख से अधिक लोगों लोगों की जान ले ली थी। भूकंप और उससे पैदा हुई सुनामी की लहरों ने अंडमान द्वीप समूह, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पुदुचेरी में में भारी तबाही मचाई थी। इसका प्रकोप सबसे अधिक दक्षिण भारत, श्रीलंका और इंडोनेशिया पर हुआ। इसके कारण 13 प्रभावित देशों में 7 लाख से अधिक लोग विस्थापित हुए थे। वहीं आपदा से निपटने के लिए सरकारी सहायता और निजी दान के रूप में 13.6 अरब डॉलर खर्च किए गए थे।
इस साल कोविड की दहशत
इस साल कोविड-19 महामारी के कारण पूरी दुनिया अभी दहशत में है। ठीक 16 साल पहले 26 दिसंबर 2004 को सुनामी ने कहर बरपाया था जिसके कारण पूरी दुनिया में प्रलय के हालात थे। भारत समेत श्रीलंका, इंडोनेशिया समेत कई देशों के तटीय क्षेत्रों के पास बसे अनेक शहर मलबे में तब्‍दील हो गए थे। इस आपदा की वजह वैसे तो हिंद महासागर में 9.15 की तीव्रता वाले भूकंप को माना जाता है, जिसकी वजह से सुनामी की लहरें उठीं और जान-माल सबका नुकसान हुआ।
भारत में 16 हजार से अधिक हुई मौतें
इस सुनामी में भारत में जहां 16,279 लोगों की मौत हुई थी वहीं थाईलैंड में 5,300 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी। बर्मा के तटों पर भी इसका असर दिखा था और भारत का अंडमान निकोबार भी इसकी चपेट में आ चुका था। उधर, इंडोनेशिया के सुमात्रा में समुद्र के नीचे दो प्लेटों में आई दरारें खिसकने से उत्तर से दक्षिण की ओर पानी की लगभग 1000 किलोमीटर लंबी दीवार खड़ी हुई थी जिसका रुख पूर्व से पश्चिम की ओर था। इस जल प्रलय में इतनी ताकत थी कि सुमात्रा का उत्तरी तट तो पूरी तरह बर्बाद हो गया था। इसके साथ आचेह प्रांत का तटीय इलाका भी पूरी तरह से समुद्री पानी में डूब गया था।
............

Ashok Rajpurohit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned