scriptdigital library | अब ऑनलाइन कर सकेंगे पढ़ाई, 500 से अधिक पुस्तकालयों को मिलेगा डिजिटल बढ़ावा | Patrika News

अब ऑनलाइन कर सकेंगे पढ़ाई, 500 से अधिक पुस्तकालयों को मिलेगा डिजिटल बढ़ावा

locationचेन्नईPublished: Nov 14, 2022 08:25:24 pm

Submitted by:

Satish Sharma

देश में पहली बार तमिलनाडु के 76 पुस्तकालयों में 65.54 लाख रुपए के 152 वर्चुअल रियलिटी डिवाइस पेश की गई है। इसका उद्देश्य पाठकों को पढऩे का बेहतर अनुभव देना और बच्चों को किताबों की दुनिया में आकर्षित करना है।

अब ऑनलाइन कर सकेंगे पढ़ाई, 500 से अधिक पुस्तकालयों को मिलेगा डिजिटल बढ़ावा
अब ऑनलाइन कर सकेंगे पढ़ाई, 500 से अधिक पुस्तकालयों को मिलेगा डिजिटल बढ़ावा
चेन्नई. देश में पहली बार तमिलनाडु के 76 पुस्तकालयों में 65.54 लाख रुपए के 152 वर्चुअल रियलिटी डिवाइस पेश की गई है। इसका उद्देश्य पाठकों को पढऩे का बेहतर अनुभव देना और बच्चों को किताबों की दुनिया में आकर्षित करना है। सार्वजनिक पुस्तकालय निदेशालय अतिरिक्त रूप से सभी पुस्तकालयों में इंटरनेट कनेक्शन देने की योजना बना रहा है। साथ ही फुटफॉल के आधार पर 500 पुस्तकालयों में डिजिटल पुस्तकालय सुविधाएं शुरू करने और किताबों की घर-घर डिलीवरी शुरू करने की भी योजना है। वर्तमान में केवल अन्ना शताब्दी पुस्तकालय में 3,000 से अधिक पुस्तकें डिजिटल विकल्प रूप में मौजूद हैं।
छात्रों को होगा अलग अनुभव
अन्ना शताब्दी पुस्तकालय के अधिकारी वी दिनेश कुमार ने कहा हमने वर्चुअल रियलिटी उपकरणों का उपयोग करने के तरीके पर 155 पुस्तकालयाध्यक्षों को प्रशिक्षित किया है। चेन्नई में यह आलवारपेट सर्कल पुस्तकालय और अशोक नगर पुस्तकालय में हैं। छात्र किताबों में जो पढ़ते हैं उसका अनुभव कर सकेंगे। हमें उम्मीद है कि यह पहल रंग लाएगी और अधिक बच्चों को पुस्तकालयों तक खींच लाएगी। तमिलनाडु के अधिकारियों ने घोषणा की है कि राज्यभर में 500 से अधिक पुस्तकालयों को इंटरनेट कनेक्शन, डिजिटल सुविधाओं के साथ-साथ पाठकों के दरवाजे तक पुस्तकों की डिलीवरी प्रदान की जाएगी।
सूत्रों ने बताया कि जल्द ही पहल के लिए धन आवंटित किया जाएगा। इस बीच तमिलनाडु सार्वजनिक पुस्तकालय निदेशालय भी पाठकों के दरवाजे तक किताबें पहुंचाने के लिए एक बड़ी पहल कर रहा है। नूलगा नानबारगल नाम की यह योजना लोगों को और किताबें पढऩे के लिए प्रोत्साहित करने में मदद करेगी। स्वयंसेवकों को पुस्तकालयों के सदस्यों के साथ-साथ निवासी कल्याण संघों से चुना जाएगा, जो वितरण एजेंटों के रूप में भी काम करेंगे। तमिलनाडु सरकार ने राज्यभर के 76 पुस्तकालयों में आभासी वास्तविकता (वीआर) उपकरणों की शुरूआत की है। 65.54 लाख रुपए की लागत से कुल 152 वर्चुअल डिवाइस पेश किए गए। पुस्तकालयाध्यक्षों को भी उपकरणों के प्रयोग के बारे में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। प्रत्येक पुस्तकालय को दो वीआर डिवाइस प्रदान किए गए हैं और 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों को इन उपकरणों का उपयोग करने में वरीयता दी जाती है।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.