ऑटोचालक नियमों के तहत वाहन चलाएं

यहां उमेशचंद्र कॉन्फ्रेंस हॉल में रविवार को ऑटो यूनियनों एवं ऑटो चालकों की बैठक का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता पुलिस अधीक्षक...

By: मुकेश शर्मा

Published: 19 Jan 2019, 11:15 PM IST

नेल्लोर।यहां उमेशचंद्र कॉन्फ्रेंस हॉल में रविवार को ऑटो यूनियनों एवं ऑटो चालकों की बैठक का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता पुलिस अधीक्षक ऐश्वर्य रस्तोगी ने की। बैठक में पुलिस अधीक्षक ने ऑटो चालकों से कहा वे अनुशासन में रहकर काम करें और नियमों को ध्यान में रखकर वाहन चलाएं।

साथ ही कहा कि ऑटो चलते समय ड्राइवर की सीट पर बगल में कोई यात्री ना बिठाएं, मद्यपान करके ऑटो न चलाएं, पार्किंग स्थल पर ही ऑटो पार्क करें व यात्रियों को ऑटो में बिठाने के लिए मार्जिन का ध्यान रखें और सडक़ के बीचोंबीच ऑटो खड़ा कर यात्रियों को न बिठाएं इससे आवागमन बाधित होता है। उन्होंने कहा सभी ऑटो चालकों को नियम का पालन करना होगा।

ऐसा नहीं करने पर जुर्माना लगाया जाएगा। उन्होंने ऑटो यूनियनों से भी कहा कि वे ऑटो चालकों से नियमों का पालन करवाने पर जोर दें। बैठक में ऑटो चालकों ने भी पुलिस अधीक्षक के समक्ष अपनी समस्याएं रखी। इन समस्याओं के निवारण के लिए रस्तौगी ने जल्द ही कदम उठाने का आश्वासन दिया।


शिविर में 250 लोगों ने किया रक्तदान

नारायणी भक्त सभा की ओर से श्री यहां नगर भवन में नारायणी पीठम संस्थापक स्वामी शक्ति अम्मा की 43वें जयंती पर रविवार को रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि विधायक कार्तिकेयन ने दीप प्रज्वलित करने के साथ ही देवी लक्ष्मीनारायणी की पूजा व आरती कर रक्तदान शिविर का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि रक्तदान से बड़ा और कोई दान नहीं है। युवा वर्ग आगे बढक़र रक्तदान करना चाहिए। आपके दिए रक्त से कइयों के जान बचेगी। विश्व में भारत में ही सबसे ज्यादा सडक़ दुर्घटनाओं में लोगों की जान जाती है। समय पर घायलों को अस्पताल पहुंचाने के बावजूद भी अक्सर रक्त न मिलने से कई घायलों की मौत हो जाती है।

शिविर में 250 लोगों ने रक्तदान किया। 250 यूनिट रक्त को नारायणी अस्पताल के ब्लड बैंक में जमा कराया गया। इस अवसर पर पीठम अधिकारी सुरेश, सौंदरराजन, प्रबंधक संपत इत्यादि उपस्थित थे।

टैंक में डूबने से चार नाबालिग छात्रों की मौत

यहां तलेवटी गांव में रविवार को टैंक में नहाने उतरे कथित तौर पर स्कूल के चार विद्यार्थियों की डूबने से मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि जब चारों विद्यार्थी टैंक में नहा रहे थे तभी अचानक उनके पैर कीचड़ में फंस गए जिससे निकल नहीं पाए और डूब गए। घटना का पता चलने पर चारों को बाहर निकाला एवं शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned