इंजीनियरिंग से छात्रों का मोह भंग, तीसरे राउंड की काउंसलिंग के बाद भी एक चौथाई सीटें भर पाई

इंजीनियरिंग से छात्रों का मोह भंग
- तीसरे राउंड की काउंसलिंग के बाद भी एक चौथाई सीटें भर पाई

By: Ashok Rajpurohit

Published: 27 Oct 2020, 10:58 PM IST

चेन्नई. तमिलना़डु इंजीनियरिंग एडमिशन (टीएनईए2020) काउंसलिंग के तीसरे राउंड के बाद राज्य के कॉलेजों में 75 फीसदी सीटें खाली रह गई है। काउंसिलंग के तीसरे राउंड के बाद तमिलनाडु की 1.61 लाख इंजीनियरिंग सीटों में से 42 हजार सीटें ही भर पाई है।
रिपोर्ट के अनुसार, तीसरे राउंड की काउंसलिंग के बाद 1,61,877 इंजीनियरिंग सीटों में से 42,421 सीटें ही भर सकी है।
सरकारी कोटे की सीटों की वैकेन्सी इस साल 60 फीसदी है। यदि काउंसलिंग के चौथे चरण में भी ऐसे ही हालात रहे तो करीब 40 फीसदी सीटें ही भर पाएगी। इस साल एडमिशन लेने वालों की संख्या घटी है। इस सला तकनीकी शिक्षा निदेशालय ने 8 अक्टूबर से काउंसलिंग शुरू की। यह 28 अक्टूबर तक चलेगी। 35,122 छात्र तीसरे राउंड की काउंसलिंग तथा 40,472 छात्र चौथे राउंड की काउंसलिंग के लिए बुलाए गए। चौथे राउंड की प्रोविजनल लिस्ट 28 अक्टूबर को जारी होगी।

बारहवीं बोर्ड के आधार पर
2019-20 में तमिलनाडु के 436 इंजीनियरिंग कालेजों में 2.26 लाख सीटें थी। इसमें से 1.08 लाख सीटें ही भर पाई थी। तमिलनाडु में इंजीनियरिंग कालेज में प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा नहीं होती। बारहवीं बोर्ड में गणित, भौतिक व रसायन के अंकों के आधार पर ही रैंक लिस्ट तैयार की जाती है। सीट आवंटन के लिए सिंगल खिड़की काउंसलिंग प्रक्रिया है।

Ashok Rajpurohit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned