सातानकुलम कस्टडी मौत पर न्यायिक मजिस्ट्रेट की रिपोर्ट

पिता-पुत्र को भोर तक लाठियों से पीटा गया
- हाईकोर्ट में पेश की रिपोर्ट

By: P S Kumar

Published: 30 Jun 2020, 07:00 PM IST

मदुरै.

तुत्तुकुड़ी जिले के सातानकुलम पुलिस थाने में जयराज-बेनिक्स (पिता-पुत्र) को पुलिसकर्मियों ने भोर तक लाठियों से जमकर पीटा। सातानकुलम पुलिस थाने में न्यायिक मजिस्ट्रेट भारतीदासन ने जाकर प्रत्यक्ष पूछताछ की। हाईकोर्ट की मदुरै खण्डपीठ में मजिस्ट्रेट ने जांच रिपोर्ट पेश की जिसमें सनसनीखेज खुलासा हुआ है।

मजिस्ट्रेट ने सातानकुलम थाने में कार्यरत हेडकांस्टेबल रेवती से पूछताछ की। उसका बयान था कि पिता जयराज और बेटे बेनेक्स को रात से लेकर सुबह तक लाठियोंं से पीटा गया। इन दोनों की पिटाई इतनी जबरदस्ती की गई कि मेज और लाठियों पर खून के धब्बे लग गए।

मजिस्ट्रेट की रिपोर्ट में यह विवरण था कि सातांकुलम थाने में वे 28 जून को दस बजे गए। थाने में मामले से जुड़े रिकॉर्ड, फाइल तथा राइटर द्वारा लिखे गए विवरण की जांच की। फिर हाईकोर्ट के निर्देश पर थाने के सीसीटीवी फुटेज के रिकॉर्ड जुटाए गए।

नष्ट किए गए फुटेज
रिपोर्ट के अनुसार थाने में 19 जून से जुड़े सभी सीसीटीवी साक्ष्य कम्प्यूटर से नष्ट कर दिए गए थे। सीसी कैमरों की सेटिंग इस तरह कर दी गई थी कि प्रतिदिन का डेटा स्वत: डिलीट हो जाता था। जबकि सर्वर में डेटा स्टोर करने की पर्याप्त जगह थी।

महिला पुलिस की गवाही
सातांकुलम की महिला पुलिसकर्मी रेवती व साक्षी जज को बयान देते वक्त आतंकित नजर आईं। दोनोंं को भय था कि उनको धमकियां मिलेंगी। बकौल रेवती, बंदी बनाकर लाए गए पिता-पुत्र को रातभर पीटा गया। इस वजह से लाठियां व मेज पर खून के निशान रह गए। रेवती ने मजिस्ट्रेट बयान में कहा कि सिपाही महाराजन ने उसके कान में आहिस्ता से कहा कि तुम कुछ नहीं उखाड़ सकती। हालांकि रेवती ने उनकी बयानी वाले पत्र पर दस्तखत करने से इनकार कर दिया। सिपाही महाराजन ने पूछताछ में सहयोग नहीं किया। उसकी लाठी को लेकर भी उसने अस्पष्ट जवाब दिए।

P S Kumar Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned