पटाखा गोदाम में विस्फोट

Mukesh Sharma

Publish: Apr, 17 2018 09:50:54 PM (IST)

Chennai, Tamil Nadu, India
पटाखा गोदाम में विस्फोट

पटाखा गोदाम में विस्फोट से एक महिला की मौत हो गई तथा चार जने गंभीर रूप से घायल हो गए। दमकलों ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू...

वेलूर।पटाखा गोदाम में विस्फोट से एक महिला की मौत हो गई तथा चार जने गंभीर रूप से घायल हो गए। दमकलों ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। पटाखा मालिक मौके से फरार हो गया जिसकी तलाश की जा रही है। विस्फोट के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

पुलिस एवं प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि शहर के सेन्बागम इलाके में कोनवटम निवासी अब्दुल कादर का पटाखे बनाने का गोदाम है। शनिवार को पांच श्रमिक पटाखे बनाने के कार्य में लगे थे। सुबह करीब 10.30 बजे एक युवक गोदाम से पटाखे खरीदकर ले गया था। इसके कुछ देर बाद ही अचानक गोदाम में जोर से विस्फोट हुआ और आग पकड़ ली। अचानक हुए विस्फोट से श्रमिकों को संभलने का मौका ही नहीं मिला। इस हादसे में कन्सलपेटै निवासी दीपा (25) की झुलसने से मौके पर ही मौत हो गई।

इसी इलाके में रहने वाली शीला (30), पुष्पा (30), कविअरसन (33) एवं शिवा (35) गंभीर रूप से झुलस गए। स्थानीय लोगों ने दमकल व पुलिस को सूचना दी तथा घायलों को अस्पताल पहुंचाया। सूचना मिलने पर पुलिस अधीक्षक पाकलवन, पुलिस निरीक्षक सेल्वराज, तहसीलदार बालाजी, सहायक कलक्टर सेल्वराज मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। प्रारम्भिक जांच में पता चला है कि पटाखे बनाने के लिए लाइसेंस तो ले रखा था लेकिन सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं थे। गोदाम में विस्फोट की जानकारी मिलने के बाद मालिक अब्दुल कादर मौके से फरार हो गया। पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

रूसी बच्चे ने मुख्यमंत्री को दिया धन्यवाद

आठ साल के एक रूसी बच्चा अपनी मां के साथ तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एडपाडी के. पलनीस्वामी के राज्य सचिवालय कार्यालय जाकर उन्हें विशेष धन्यवाद दिया। उसने यह धन्यवाद उन्हें चिकित्सकीय सुविधा मुहैया कराकर उसे नया जीवन प्रदान करने के लिए दिया। सरकार की ओर से जारी एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार पहले से ही तीन-तीन हृदयाघातों का सामना कर चुके इस बच्चे को जब शहर के फोर्टिस मलार अस्पताल में भर्ती कराया गया तब उसे हृदय प्रत्यारोपण की सख्त जरूरत थी।


सर्जरी के लिए उसका सीना खोलने से पहले चिकित्सकों ने 45 मिनट तक उसके हृदय की मालिश की तथा उसे ईसीएमओ नामक एक विशेष ऑक्सीजन मशीन से जोड़े रखा। यहां तक की सर्जरी के दौरान भी उसे कार्डियाक अरेस्ट आया लेकिन चिकित्सकों ने इलाज जारी रखने का निर्णय लेते हुए पहली बार इस दुर्लभ सर्जरी को सफलता पूर्वक अंजाम दिया। प्रत्यारोपण सर्जन डॉक्टर के. आर. बालकृष्णन एवं उनकी टीम के डॉक्टरों सहित इस रूसी बालक एवं उसकी मां ने मुख्यमंत्री को विशेष धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री पलनीस्वामी ने खुशी जाहिर करते हुए उस बच्चे के लंबे एवं स्वस्थ जीवन की कामना की। इस दौरान वहां स्वास्थ्य मंत्री डॉ. सी. विजय भास्कर एवं अन्य लोग भी मौजूद थे।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

1
Ad Block is Banned