गांजा विक्रेता और ग्राहक बन रहे विद्यार्थी!

गांजा विक्रेता और ग्राहक बन रहे विद्यार्थी!

Purushotham Reddy | Publish: Oct, 13 2018 09:10:37 PM (IST) | Updated: Oct, 13 2018 09:10:38 PM (IST) Chennai, Tamil Nadu, India

- कई बार पकड़ी जा चुकी है बड़ी खेप

पुरुषोत्तम रेड्डी @ चेन्नई

शराबबंदी की नीति को अमल में लाने को लेकर हो रहे शोर-शराबे के बीच युवा पीढ़ी गांजे के नशे में डूबती जा रही है। यह विडम्बना है कि गांजा माफिया विद्यार्थियों को ही विक्रेता बनाकर अपना गोरखधंधा चला रहा है।

इस माफिये की नजर स्कूल और कॉलेज विद्यार्थियों पर है जो ग्राहक भी हैं और सप्लाई चेन के अंग भी। चेन्नई सहित राज्य के विभिन्न इलाकों में हो रहे गांजे की तस्करी का अंदेशा इस बात से लग जाता है कि रेडहिल्स चुंगी नाके पर गत दिनों आंध्रप्रदेश, ओडिशा सहित अलग-अलग राज्यों से आई गांजे की खेप मादक द्रव्य नियंत्रण ब्यूरो और डीआरआई के अधिकारियों ने पकड़ी।

गांजे की तस्करी और बिक्री पर अंकुश लगाने में पुलिस विभाग नाकाम साबित हो रहा है। उसकी कदाचित होने वाली कार्रवाई के बाद भी नशा व्यापारी बेखौफ तस्करी करते हैं। नाम नहीं प्रकाशित करने की शर्त पर एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि युवाओं में गांजे की बढ़ती लत के चलते यह कारोबार खुलेआम होने लगा है और इसका दायरा बढ़ रहा है।

खुफिया सूचना व गश्त के दौरान कई बार गांजे की बड़ी खेप पकड़ी जाती है और आरोपियों को सलाखों के पीछे भी डाला जाता है लेकिन यह एक व्यक्ति का काम नहीं इसके पीछे अंतर्राज्यीय नेटवर्क काम करता है।
———
बेरोजगार, स्कूल ड्रॉपआउट और विद्यार्थी
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि कई बार स्कूल ड्रॉपआउट छात्र गांजा बेचते पकड़े जाते हैं। चंद रुपयों के लिए वे गांजा तस्करों के बहकावे में आ जाते हंै। गांजा तस्करों की नजर में बेरोजगार युवक और विद्यार्थी वर्ग रहता है।

उनके हाथों में गांजे की पुडिय़ा थमाकर भविष्य संवारने का लालच दिया जाता है। गांजा सेवन करने वालों में 30 वर्ष से कम आयु के युवाओं की संख्या सबसे ज्यादा बताई गई है।

शराबबंदी से फला-फूला
आईटी कंपनी के सॉफ्टवेयर इंजीनियर आदित्य (बदला हुआ नाम) ने कहा कि महानगर में शराबबंदी (रात दस बजे के बाद शराब की दुकानें बंद होने) की नीति की वजह से कहीं ना कहीं गांजे की बिक्री बढ़ी है। देर रात घर लौटने वाले कामकाजी लोग और नाइट शिफ्ट में काम करने वाले लोग आसानी से इसके आदी हो जाते हैं।

युवा पीढ़ी तो काम का तनाव कम करने के नाम पर गांजा सेवन को टशन समझने लगी है जो दरअसल एक लत है।

अक्टूबर और नवम्बर में उजागर गांजा मामले
तारीख जब्ती और गिरफ्तारी
९ सितम्बर कोयम्बेडु पुलिस ने इंजीनियर गे्रजुएट सहित दो विद्यार्थियों को गांजा बेचने के आरोप में धरा

१९ सितम्बर चिंताद्रीपेट में एक युवक गिरफ्तार

२२ सितम्बर डीआरआई ने दो तस्करों को २३० किलो गांजा समेत पकड़ा

२४ सितम्बर एनसीबी ने एक व्यक्ति से ४०० किलो गांजा जब्त किया

२ अक्टूबर १०६ किलो गांजे के साथ ४ जने गिरफ्तार

६ अक्टूबर ओल्ड महाबलीपुरम रोड पर तीन कॉलेज छात्र २० किलो गांजा के साथ पकड़े

Ad Block is Banned