शिवगंगा के किसानों ने सरकार से क्षति के लिए राहत देने की मांग की

जिले के मानामदुरै ब्लॉक के किसानों ने कुछ सार्वजनिक निर्माण विभाग (पीडबल्यूडी) के इंजीनियरों के रवैये की शिकायत की है

By: Vishal Kesharwani

Published: 29 Dec 2020, 05:32 PM IST


शिवगंगा. जिले के मानामदुरै ब्लॉक के किसानों ने कुछ सार्वजनिक निर्माण विभाग (पीडबल्यूडी) के इंजीनियरों के रवैये की शिकायत की है, जिसके कारण सिंचाई के लिए वेगै से पर्याप्त पानी नहीं छोड़ा जा रहा है। किसानों ने कहा कि पीडबल्यूडी ने 45 क्यूसेक पानी छोडऩे का वादा किया था, लेकिन अब तक तेल एंड तक सिर्फ 15 क्यूसेक पानी ही पहुंच पाया है। नदी के पास हुए अतिक्रमण को हटाने की मांग के बावजूद अधिकारियों द्वारा किसी प्रकार का कदम नहीं उठाया गया। वहीं इलयानकुड़ी ब्लॉक के किसानों ने आरोप लगाया कि उनके कृषि में जलजमाव की वजह से धान और मिर्च की खेती बर्बाद हो गई।

 

मुत्तुरामलिंगपुरम के एक किसान ने बताया पिछले पांच सालों से गांव में पानी नहीं है। जिसके कारण हम लोग खेती नहीं कर पा रहे हैं। इस साल ही सालैग्रामम, सुरीनामी और अन्य इलाकों में अच्छी बारिश होने के बाद किसानों ने 500 हैक्टेयर में कृषि की थी। जब खड़ी फसले कटने के इंतजार में थी तो बुरेवी चक्रवात के प्रभाव ने फसल को बर्बाद कर दिया। जलजमाव की वजह से पूरी फसले बर्बाद हो गई। स्थिति को गंभीरता से लेते हुए किसानों ने जिला कलक्टर पी. मधुसुदन रेड्डी को एक ज्ञापन सौंपा था।

 

उसके बाद कलक्टर ने कार्रवाई करने और क्षति का आकलन करने का आश्वासन दिया था। लेकिन अब तक किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की गई। इसी बीच की इंजीनिारयर ने कहा मानामदुरै ब्लॉक में टर्न आधार पर पानी छोड़ा जा रहा है। कुडीमारमुत्तु योजना के तहत ब्लॉक के टैंक की साफ सफाई का कार्य किया जा रहा है।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned