फुट ओवरब्रिज है लेकिन नीचे से करते आवागमन

फुट ओवरब्रिज है लेकिन नीचे से करते आवागमन

Mukesh Kumar Sharma | Publish: Apr, 25 2019 12:41:40 AM (IST) | Updated: Apr, 25 2019 12:41:41 AM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

बदलते समय में हर आदमी पैसे के पीछे भागता नजर आता है। इसके चलते न तो उसे खतरा दिखाई देता है और न ही अपनी खुद की सुरक्षा का ध्यान

चेन्नई।बदलते समय में हर आदमी पैसे के पीछे भागता नजर आता है। इसके चलते न तो उसे खतरा दिखाई देता है और न ही अपनी खुद की सुरक्षा का ध्यान रहता है। यही कारण है कि महानगर में दुर्घटनाओं का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है। हालांकि सरकार ने आमजन की सुरक्षा के लिए अनेक सुविधाएं मुहैया करवाई हैं लेकिन लोग उनकी अनदेखी कर केवल भागने पर ध्यान देते हैं। इसका खामियाजा उनको दुर्घटना के रूप में भुगतना पड़ता है।

महानगर में जनसंख्या के अनुपात में वाहनों का ग्राफ भी लगातार बढ़ रहा है। यही कारण है गत पांच-छह सालों में शहर में जिस गति से वाहनों की संख्या बढ़ी है उसके चलते यहां की सडक़ों पर इतनी भीड़ बढ़ गई है कि लोगों को पैदल तो दूर अपना वाहन भी सुरक्षित निकालने के लिए पूरी सावधानी बरतनी पड़ती है। थोड़ी सी भी असावधानी दुर्घटना करवा सकती है। इसीलिए सरकार द्वारा सभी बड़ी सडक़ों पर पैदल यात्रियों के रोड पार करने के लिए फुट ओवरब्रिज का निर्माण करवाया गया है और लगातार जरूरत के अनुसार करवाया जा रहा है। आश्चर्य की बात यह है कि फुट ओवरब्रिज की सुविधा होने के बावजूद लोग उस पर से रोड पार नहीं कर नीचे वाहनों की भीड़ के बीच से रोड पार करते हैं।

बढ़ती वाहनों की संख्या के मुकाबले यहां की सडक़ें सिकुड़ती जा रही हैं लेकिन उनकी चौड़ाई नहीं बढ़ पाई। सडक़ों पर आवागमन इतना बढ़ गया है कि लोगों को सडक़ पार करने के लिए लंबे समय तक इंतजार करना पड़ता है। हालांकि शहर की कई बड़ी सडक़ें हैं जिनकी चौड़ाई बढ़ाकर करीब दुगुनी कर दी गई है फिर भी उन पर आवागमन का दबाव कम नहीं हो रहा है। इन सडक़ों में ओल्ड महाबलीपुरम रोड, तरमणि लिंक रोड, मेडवाक्कम हाई रोड, मडिपाक्कम में कूट रोड, पूंदमल्ली हाई रोड, जीएसटी रोड, कामराजर सालै आदि शामिल हैं। यातायात नियंत्रण के लिए टे्रफिक पुलिस को भारी मशक्कत करनी पड़ती है। अनेक बड़ी सडक़ों पर यात्रियों के सुरक्षित रोड पार करने के लिए फुट ओवरब्रिज और अंडरपास बनाए हुए हंै लेकिन अपनी सुरक्षा को भूल लोग सीधे रोड से दूसरी ओर जाते हैं।

हालांकि सडक़ों पर लगातार भीड़ बढ़ती जा रही है इसके बावजूद कई बार वाहन चालक रेड सिग्नल में ही पार जाने की कोशिश करते हैं और निकल भी जाते हैं। इसी जल्दी का परिणाम है कि दुर्घटनाएं हो जाती हैं।

निगम ने बनाए फुट ओवरब्रिज

राहगीरों को सडक़ों पर दुर्घटनाओं से बचाने के लिए महानगर निगम ने फुट ओवरब्रिज बना तो दिए हैं लेकिन राहगीर उनसे रोड पार करते ही नहीं हैं। इनमें से अनेक फुट ओवरब्रिज ऐसे हैं जिन पर से लोग आवागमन करते ही नहीं, सीधे ही सडक़ पार करते हैं चाहे दुर्घटना का शिकार हो जाएं। निगम ने जीएसटी रोड पर चार जगह फुट ओवरब्रिज बनाए हैं इनमें सईदापेट बस टर्मिनस के पास एवं ताम्बरम के पास बना फुट ओवरब्रिज अनुपयोगी साबित हो रहा है। लोग इन फुट ओवरब्रिज के बजाय सीधे रोड से दूसरी ओर जाते हैं जो किसी खतरे से कम नहीं है। निगम द्वारा अभी आलंदूर मेट्रो स्टेशन केपास एक नया फुट ओवरब्रिज और बनाया जा रहा है। यह ब्रिज इसलिए भी जरूरी है क्योंकि लोग दूसरी ओर बस से उतर कर वाहनों की भीड़ के बीच से मेट्रो स्टेशन आते हैं। सईदापेट बस टर्मिनस के पास निर्मित फुट ओवरब्रिज इसलिए अनुपयोगी बना हुआ है कि इसके पास ही सिग्नल लगा हुआ है जिसके रेड होते ही लोग रोड पार कर लेते हैं उनको ब्रिज से आवागमन करने की जरूरत ही नहीं पड़ती है।


यह फुट ओवरब्रिज इसलिए बनाया गया था क्योंकि यहां एकतरफा एवं छह लेन की रोड है जिस पर सईदापेट एवं गिंडी दोनों साइड से वाहन गुजरते हैं जिनमें बड़ी संख्या में बसें दौड़ती हैं। यही कारण है कि इस बस स्टॉप पर लोगों का रोड के दोनों साइड से आवागमन होता है। इतना होने पर भी लोग फुट ओवरब्रिज से रोड पार नहीं करते। इस ब्रिज के अनुपयोगी होने के लिए इसके पास लगा सिग्नल भी जिम्मेदार है जिसके लाल होते ही लोग रोड पार कर लेते हैं जिनकी चपेट में कई लोग घायल हो चुके हैं।

कुछ समय पहले चेन्नई सेंट्रल में भी फुट ओवरब्रिज लगाया गया था लेकिन वह पूरी तरह अनुपयोगी साबित हुआ क्योंकि वह स्टेशन परिसर में बनाया गया था जहां से लोग सीधे ही स्टेशन से आवागमन कर सकते हैं। ऐसे में उसे बनाने के कुछ समय बाद ही हटा दिया गया। वैसे चेन्नई सेंट्रल फुट ओवरब्रिज की जरूरत पीएच रोड पर थी जिस पर से रोज हजारों लोग निकलते हैं। हालांकि यहां अंडर पास बना हुआ है लेकिन लोग उसके बजाय सीधे ही रोड पार करना ज्यादा पसंद करते हैं जो किसी खतरे से कम नहीं है।

तरमणि लिंक रोड पर अनुपयोगी

ुुयही हालत तरमणि लिंक रोड पर है जहां बने दो सुविधायुक्त फुट ओवरब्रिज अनुपयोगी साबित हो रहे हैं। ये दोनों फुट ओवरब्रिज निगम द्वारा गत वर्ष के अंत में बनाए गए थे क्योंकि तरमणि लिंक रोड पहले दो लेन की थी जिसकी चौड़ाई बढ़ाकर चार लेन कर दी गई है। साथ ही बीच में डिवाइडर भी बना दिया गया है जिससे लोगों का रोड पार करने में बड़ी मशक्कत करनी पड़ रही थी। ये फुट ओवरब्रिज उस हिस्से में बनाए गए हैं जिसमें गत वर्ष भूमिगत ड्रेनेज बनने के बाद रोड तैयार हो गई थी। इन दोनों ब्रिजों में से एक भारती नगर के पास बना है जिसके नीचे बस स्टॉप भी बना है।

इस ब्रिज को पूरी तरह आसान बनाया गया है लेकिन लोग इस पर से नहीं जाकर दुर्घटना का खतरा झेलकर भी सीधे रोड से डिवाइडर पार करके दूसरी ओर जाते हैं। दूसरा ब्रिज इसके दो किलोमीटर आगे ही बनाया गया जिसके पास ही क्रॉसिंग है जिससे दुर्घटना का हमेशा खतरा बना रहता है जिसे देखते हुए यह फुट ओवरब्रिज बनाया गया है ताकि लोग खतरे से बच सकें, लेकिन इसके बावजूद यह ब्रिज दिनभर खाली पड़ा रहता है और यात्री सीधे रोड पार करते हैं।

इसी प्रकार ओल्ड महाबलीपुरम रोड पर दो फुट ओवरब्रिज बनाए गए हैं। पहले यह रोड केवल दो लेन की थी जिसे बढ़ाकर चार लेन की बना दिया गया है जिससे इस पर आवागमन भी काफी बढ़ गया है। हालत यह है कि रोड पार करने के लिए राहगीर को लंबे समय तक इंतजार करना पड़ता है।

कई स्थानों पर तो पुलिस यातायात रोककर राहगीरों का रोड पार करवाते हैं। गत दो साल पहले इस रोड पर बढ़ते यातायात के दबाव एवं राहगीरों की रोड पार करने में आ रही परेशानी को ध्यान में रखकर निगम ने दो फुट ओवरब्रिज बना दिए। इनमें से ब्रिज टोल प्लाजा के पास बना है तो दूसरा एक बड़े चौराहे के पास बनाया गया है। यही नहीं इन दोनों फुट ओवरब्रिज के पास बस स्टॉप भी बने हुए हैं जिससे हमेशा यात्रियों की भीड़ जमा रहती है। इसके बावजूद ये दोनों फुट ओवरब्रिज अनुपयोगी बने हुए हैं और लोग सीधे खतरे की परवाह नहीं करते हुए वाहनों के बीच से ही रोड पार करते हैं। हालांकि कई बार यातायात पुलिसकर्मी वहां खड़े रहकर लोगों को फुट ओवरब्रिज से गुजारते हैं लेकिन उनके जाते ही वही ढर्रा चालू हो जाता है। इसी तरह अन्य बड़ी सडक़ों पर लगे फुट ओवरब्रिज भी यात्रियों के आवागमन को तरसते रहते हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned