महंगाई के बीच एक पेट्रोल पम्प ऐसा भी जहां मिल रहा निःशुल्क पेट्रोल !

महंगाई के बीच एक पेट्रोल पम्प ऐसा जो दे रहा निःशुल्क पेट्रोल !
तिरुक्कुरल के दोहे सुनाएं और निःशुल्क पेट्रोल भरवाएं
- संत तिरुवल्लुवर के संदेश को आमजन तक पहुंचाने के लिए
- तमिलनाडु के एक पेट्रोल पम्प मालिक की अनूठी पहल

By: Ashok Rajpurohit

Published: 17 Feb 2021, 10:31 AM IST

चेन्नई. संत तिरुवल्लुवर के संदेश को आमजन तक पहुंचाने के मकसद एवं तिरुक्कुरल के प्रचार-प्रसार को लेकर तमिलनाडु के करुर जिले के एक पेट्रोल पंप के मालिक एवं वल्लुवर कॉलेज ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के चेयरममैन के. सेंगुट्टुवन ने अनूठी पहल की है। महंगाई के इस दौर में जब पेट्रोल के भाव आसमान छू रहे हैं और चारों ओर बढ़े दामों को लेकर हाहाकार मचा है, ऐसे समय में के. सेंगुट्टुवन की यह पहल देशभर के लोगों के लिए एक उदाहरण बन सकती है। बढती कीमतों के बीच वे निःशुल्क पेट्रोल दे रहे है।
छोटी सी शर्त पूरी कर पाएं निःशुल्क पेट्रोल
बस इसके लिए उनकी एक छोटी सी शर्त को पूरा करना है। पहली से लेकर 12 वीं कक्षा में अध्ययनत विद्यार्थी निःशुल्क पेट्रोल पाने के हकदार है। उन्हें करना केवल यह है कि तिरुक्कुरल के दोहे बिना देखे सुनाने है। कवि एवं संत तिरुवल्लुवर रचित तिरुक्कुरल एक पवित्र ग्रन्थ है। बीस दोहे सुनाने पर एक लीटर पेट्रोल तथा दस दोहे सुनाने पर आधा लीटर पेट्रोल निःशुल्क दिया जा रहा है। इसके तहत विद्यार्थी को अपने अभिभावक के साथ दुपहिया वाहन में पेट्रोल भरवाने के लिए आना होता है। भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड का उनका पेट्रोल पम्प नौ साल पुराना हैं।
तिरुवल्लुवर दिवस पर की शुरुआत
सेंगुट्टुवन ने राजस्थान पत्रिका के साथ खास बातचीत में बताया कि उनके पिता करप्पया संत तिरुवल्लुपर में गहरी आस्था रखते थे। उनके पदचिन्हों पर चलते हुए ही इस साल यह आइडिया दिमाग में आया। तिरुवल्लुवर दिवस 16 जनवरी को यह योजना शुरू की जो इस साल 30 अप्रेल तक चलाई जाएगी।
हर रोज बीस से तीस लीटर पेट्रोल निःशुल्क
वे बताते हैं, हर रोज करीब बीस से तीस लीटर पेट्रोल निःशुल्क दिया जा रहा है। पेट्रोल पम्प पर ऐसी सूचना का बैनर भी लगाया गया है जिसमें तिरुक्कुरल सुनाने पर निःशुल्क पेट्रोल देने की बात कही है। ऐसा पहली बार किया गया है और इसका इलाके में काफी अच्छा रेस्पोन्स मिल रहा है। लोग उनके इस काम की खूब तारीफ कर रहे हैं।
तिरुक्कुरल पढ़ने की प्रवृत्ति बढ़ी
इस योजना का असर यह हुआ कि आसपास के इलाके में बच्चों में अचानक से तिरुक्कुरल पढ़ने की प्रवृत्ति बढ़ गई है। बच्चे बकायदा तिरुक्कुरल के दोहे कंठस्थ कर उत्साह के साथ पेट्रोल पम्प पहुंच रहे हैं। आसपास के इलाके में इस पेशकश की खूब चर्चा हो रही है।

Show More
Ashok Rajpurohit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned