यथास्थिति स्पष्ट करे सरकार : हाईकोर्ट

मद्रास हाईकोर्ट ने तमिलनाडु सडक़ विकास प्राधिकरण को निर्देश दिया है कि वह संविदा कर्मचारियों में से ११ जनों की बर्खास्तगी के आदेश पर यथास्थिति स्पष्ट क

By: मुकेश शर्मा

Published: 18 Aug 2017, 10:47 PM IST

चेन्नई।मद्रास हाईकोर्ट ने तमिलनाडु सडक़ विकास प्राधिकरण को निर्देश दिया है कि वह संविदा कर्मचारियों में से ११ जनों की बर्खास्तगी के आदेश पर यथास्थिति स्पष्ट करे और दो सप्ताह के अंदर जवाब दे। बर्खास्तगी का आदेश २४ जुलाई को जारी हुआ था जिसे पात्र्तिपन और दस अन्य ने सिंगल जज की कोर्ट में चुनौती दी थी।

१० अगस्त को सिंगल जज के निर्देश के खिलाफ याची ने न्यायिक खण्डपीठ में अपील की। याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायाधीश एस. मणिकुमार और न्यायाधीश वी. भवानी की खंडपीठ ने उक्त निर्देश जारी किया।

यह है मामला

टीएनआरडीसी याची व दस अन्य को नौकरी से बर्खास्त कर दिया। इस मामले के खिलाफ दायर याचिका में निचली अदालत ने कहा कि एण्णूर पोर्ट का काम खत्म हो चुका है ऐसे में कांट्रेक्ट कर्मचारियों को सेवा में शामिल नहीं किया जा सकता। जिसके बाद मौजूदा याचिका हाईकोर्ट में दायर की गई। मुख्यमंत्री के विधानसभा में दिए हालिया बयान जिसमें कहा था कि एण्णूर पोर्ट का काम अभी भी चल रहा है का जिक्र करते हुए याचिकाकर्ता ने सवाल किया कि उन्हें फिर किस वजह से नौकरी से निकाला गया?

जबकि उनकी नियुक्ति पत्र में साफ तौर लिखा गया है कि छह महीने की सेवा के बाद इन्हें पूर्णकालिक कर दिया जाएगा। कोर्ट ने स्पष्ट कर दिया कि अगर वे कांट्रेक्ट पर काम कर रहे थे तो उन्हें नियमित कर देना चाहिए। इन्हें सभी स्थाई कर्मचारियों की तरह लाभ मिलने चाहिए। इन कर्मचारियों ने लम्बे समय तक अपनी सेवाएं दी हैं ऐसे में उन्हें ऐसे नहीं छोड़ा जा सकता।

 

विवाहिता को जान से मारने की धमकी, सिपाही धरा


विवाहिता के साथ मारपीट और जान से मारने की धमकी देने के आरोप में आवड़ी बटालियन के जवान को गिरफ्तार किया गया है। काशीमेडु पुलिस ने बताया कि आवड़ी बटालियन के जवान विजय कुमार (२७) को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि विजय कुमार (मूल रूप से अरियालूर जिला निवासी) काशीमेडु के विनायकापुरम में रहने वाली ललनी (२७) से वह परिचित था।

 

वह ललनी पर शादी के लिए दबाव बनाने लगा। लेकिन उसने साफ इंकार कर दिया। पुलिस ने बताया कि विजय कुमार बुधवार को ललनी से मिला और फिर वही जिद करने लगा। इंकार करने पर उसने ललनी के साथ कथित मारपीट की और शादी नहीं करने पर जान से मारने की धमकी दी। ललनी ने काशीमेडु थाने में विजय कुमार के खिलाफ शिकायत की। शुरुआत में पुलिस ने विजय कुमार को समझाने की कोशिश की लेकिन वह नहीं माना। उसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर उसे जेल भेज दिया।

 

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned