पर्यावरण संरक्षण के लिए जन आन्दोलन की जरूरत

पर्यावरण संरक्षण के लिए जन आन्दोलन की जरूरत
tree plantation

Ashok Rajpurohit | Publish: Jul, 26 2019 07:12:08 PM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

-एक्सनोरा इंटरनेशनल एवं राजस्थान पत्रिका का संयुक्त आयोजन
-राजस्थान पत्रिका के हरित प्रदेश अभियान के तहत किया पौधरोपण
-चूलै स्थित चेन्नर्ई गल्र्स हायर सैकण्डरी स्कूल में पौधरोपण

चेन्नई. देश के कई बड़े शहर प्रदूषण के चलते बुरी तरह हांफ रहे हैं। पर्यावरण का मिजाज लगातार बिगड़ रहा है इसकी भरपाई किसी न किसी आपदा के रूप में भुगत रहे हैं। संरक्षण के लिए बड़े -बड़े दावे एवं वादों के बावजूद वृक्षों को विनास का सिलसिला तेजी से बढ़ रहा है। पर्यावरण संरक्षण के लिए जन आन्दोलन की जरूरत है।
एक्सनोरा नॉर्थ चेन्नई सचिव फतेहराज जे. जैन ने यह बात कही। वे शुक्रवार को चूलै स्थित चेन्नर्ई गल्र्स हायर सैकण्डरी स्कूल में पौधरोपण से पूर्व आयोजित समारोह में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। एक्सनोरा इंटरनेशनल एवं राजस्थान पत्रिका के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित हरित प्रदेश अभियान समारोह में उन्होंने कहा कि सेवा भाव से लगाए पौधे वृक्ष बचेंते तभी जीवन भी बचेगा। सभी बच्चे पर्यावरण प्रेमी व मिसाइल मैन डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के बताए मार्ग पर चलें। जैन ने कहा कि इसलिए हमें ज्यादा से ज्यादा पौधरोपण की तरफ ध्यान देना चाहिए। वृक्ष न केवल हमें केवल भावनात्मक तथा आध्यात्मिक शांति प्रदान करते हैं। कल की मिट्टी को रोके रखकर हमे बाढ़ के खतरे से बचाते हैं। कार्बन डाई आक्साइड को अवशोषित कर आसपास के वायुमंडल को स्वस्थ रखते हैं। पौधरोपण के समेत ही आवश्यकता बताते हुए कह कि हमें अपने द्वारा लगाए गए पौधों की बच्चों की तरह परवरिश करनी चाहिए। हमें मिलकर प्रयास करें। देश का कोई भी कौना हरियाली से वंचित न रहें।
स्कूल की प्रधानाध्यापिका नलिनी जोहना ने स्वागत भाषण दिया तथा कलाम के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि अब्दुल कलाम के जीवन से हमें सीख लेनी चाहिए। साथ ही अधिकाधिक पौधरोपण की सलाह दी। समारोह का संचालन तमिल की वरिष्ठ शिक्षिका जीनथ ने किया। इस अवसर पर अमरवती, आईया बेगम, एस. अरटिके, तबस्सुम, एमुबीन, एम. रहीमुनिशा, पूजा, लावण्या व दीपा समेत अन्य छात्राओं ने पर्यावरण पर विचार रखते हुए कहा कि पौधों के बिना हम जीवन की कल्पना नहीं कर सकते हैं। पौधे न केवल मनुष्य के लिए बल्कि जानवरों व पशु-पक्षियों के लिए भी अत्यंत जरूरी है। इनका औषधीय महत्व भी है। हमारे ऋषि-मुनियों ने इन्हींं पौधों की छांव में बैठकर ज्ञान का अर्जन किया तथा उसे समूचे राष्ट्र में फैलाया। बढ़ता प्रदूषण हमारे लिए चिंतनीय है और पौधरोपण कर हम प्रदूषण के स्तर को कम कर सकते हैं। पर्यावरणीय संतुलन के लिए यह जरूरी हो गया है कि हम अधिकाधिक पौधे लगाएं। यदि एक व्यक्ति एक पौधा लगाने का भी संकल्प लें तो समूची धरती हरियाली से आच्छादित हो जाएगी और कई सारी समस्याओं का स्वत: ही खात्मा भी हो जाएगा।
राजस्थान पत्रिका चेन्नई के मुख्य उप संपादक अशोकसिंह राजपुरोहित ने राजस्थान पत्रिका के हरित प्रदेश अभियान के बारे में जानकारी दी। एक्सनोरा के दीपक एवं वसुंधरा समेत अन्य गणमान्य लोग भी इस मौके् पर मौजूद थे। इस मौके पर डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को श्रद्धा सुमन अर्पित किए तथा पिछले दिनों कलाम पर आयोजित प्रतियोगिता के विजेताओं को प्रमाण पत्र दिए गए। इस अवसर पर स्कूल परिसर में विभिन्न किस्मों के पौधे लगाए गए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned