बाबा रामदेव की पतंजलि को कोरोनिल पर मद्रास हाईकोर्ट से एक और झटका, ट्रेडमार्क के इस्तेमाल पर लगाई रोक

कोरोनिल' पर पतंजलि को हाईकोर्ट ने झटका दिया है

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 18 Jul 2020, 03:22 PM IST

चेन्नई.

कोविड-19 के उपचार के रूप में पेश की गई योगगुरू रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड की दवा -कोरोनिल को मद्रास हाईकोर्ट से झटका लगा है और कोर्ट ने कंपनी को ट्रेडमार्क ‘कोरोनिल का इस्तेमाल करने से रोक दिया। न्यायमूर्ति सी वी कार्तिकेयन ने चेन्नई की कंपनी अरूद्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड की अर्जी पर 30 जुलाई तक के लिए यह अंतरिम आदेश जारी किया।

1993 से हमारा ट्रेडमार्क- कंपनी का दावा
अरूद्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड ने कहा कि ‘कोरोनिल 1993 से उसका ट्रेडमार्क है। लिहाजा इसका नाम कोई और कंपनी नहीं रख सकती। कंपनी के अनुसार उसने 1993 में ‘कोरोनिल-213 एसपीएल और ‘कोरोनिल -92बी का पंजीकरण कराया था और वह तब से उसका नवीकरण करा रही है।

2027 तक हमारा अधिकार
कंपनी ने इस ट्रेडमार्क को वैश्विक स्तर का बताया है। यह कंपनी भारी मशीनों और निरूद्ध इकाइयों को साफ करने के लिए रसायन और सेनेटाइजर बनाती है। कंपनी ने कहा, "फिलहाल, इस ट्रेडमार्क पर 2027 तक हमारा अधिकार वैध है।" इस कंपनी ने ये भी कहा है कि उसकी क्लाइंट भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड और इंडियल ऑयल जैसी कंपनिया हैं।

आयुष मंत्रालय का आदेश
पतंजलि द्वारा कोरेानिल पेश किए जाने के बाद आयुष मंत्रालय ने 1 जुलाई को कहा था कि कंपनी प्रतिरोधक वर्धक के रूप में यह दवा बेच सकती है न कि कोविड-19 के उपचार के लिए।

Show More
PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned