Chennai: आसमान छू रहे हैं आलू-टमाटर और प्याज के दाम से लोग परेशान

- आलू के भाव का बना रिकॉर्ड

By: PURUSHOTTAM REDDY

Updated: 14 Sep 2020, 07:42 PM IST

चेन्नई.

कोरोना की वजह से परेशान जनता अब महंगाई की भी मार पड़ रही है। खासतौर रोज की जरूरी चीजों में शामिल सब्जियां। सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं और आम आदमी की पहुंच से बहार होते जा रहे है। इसके साथ ही सब्जियों की महंगाई से राहत मिलने के आसार नहीं नजर आ रहे हैं। सब्जियों में सबसे ज्यादा खपत होने वाले आलू के दाम बीते दो महीने में दोगुने हो गए हैं। टमाटर पर भी महंगाई छाई हुई है। दो हफ्ते के भीतर टमाटर ४० रुपए किलो से उछलकर ६0 रुपए किलो पर चला गया है। प्याज अभी तक 15-20 रुपए किलो बिक रहा था, जो कि अब 30-40 रुपए किलो पहुंच गया है।

चेन्नई में राजस्थान पत्रिका ने कई लोगों से बातचीत की, जिन्होंने कहा कि आलू के बढ़ते दामों ने रसोई का बजट बिगाड़ दिया है। माधवरम निवासी महेश का कहना है कि आलू के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। कुछ दिन पहले तक आलू खुदरा बाजार में २० से २5 रुपये किलोग्राम था, जो अब बढक़र ४५ से ५० रुपए प्रति किलोग्राम तक हो गया है। इसी तरह अन्य सब्जियों के दाम भी बढ़ गए हैं। पिछले सप्ताह केवल दो सब्जियों को छोडक़र सभी सब्जियां महंगी हो गई।

पेरम्बूर निवासी सावत्री देवी का कहना है कि आलू समेत अन्य सब्जियों के बढ़ते दामों ने रसोई का बजट बिगाड़ दिया है। छोटे प्याज के दाम २० रुपए प्रति किलो बढ़ गए है जबकि अन्य सब्जियों के दाम १० रुपए प्रति किलो बढ़ गए है। उन्होंने बताया कि प्रशासन को सब्जियों के मनमाने दाम बढ़ोत्तरी पर रोक लगाने के लिए आवश्यक कदम उठाने चाहिए। बिचौलियों की वजह से आलू के दामों में अधिक वृद्धि हो रही है।

साहुकारपेट निवासी अमृता पाल का कहना है कि आलू के दामों में एकाएक वृद्धि हुई है। लॉकडाउन के दौरान आलू के दाम २०-२५ रुपए किलोग्राम तक थे, जो अब ५0 रुपए किलोग्राम तक पहुंच गए हैं।

बारिश ने बिगाडा खेल
कोयम्बेडु होलसेल मार्केट कॉम्पलेक्स के मार्केट मैनेजमेंट कमिटी के सदस्य और होलसेल प्याज विक्रेता वीआर सौंदरराजन का कहना है कि आलू की फसल कम आ रही है। इसके चलते दामों में बढ़ोत्तरी हो रही है। वहीं तमिलनाडु के कई हिस्सों में बारिश की वजह से छोटे प्याज की फसल बर्बाद हो गई जिस वजह से छोटे प्याज के दाम बढ़ गए है। आने वाले दिनों में दामों में कमी आने की उम्मीद है।

खपत कम होने के बावजूद कीमत बढ़ रही
कोरोना काल में होटल, रेस्तरां, कैंटीन और ढाबों में सब्जियों की खपत कम होने के बावजूद इनकी कीमतों में लगातार इजाफा हो रहा है। कारोबारी बताते हैं कि बरसात में हरी सब्जियों का उत्पादन कम हो जाने की वजह से आवक कम हो रही है, जबकि आलू के साथ यह बात लागू नहीं होती, क्योंकि इसकी ज्यादातर आवक इस समय कोल्ड स्टोरेज से हो रही है।

Show More
PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned