हिन्दी भाषा की मिठास ही अलग

हिन्दी भाषा की मिठास ही अलग
chennai

Mukesh Kumar Sharma | Publish: Oct, 09 2016 11:07:00 PM (IST) Chennai, Tamil Nadu, India

श्री शंकरलाल सुंदरबाई शासुन जैन महिला महाविद्यालय के हिन्दी विभाग एवं मद्रास हिन्दी प्रचारक संघ के

चेन्नई।श्री शंकरलाल सुंदरबाई शासुन जैन महिला महाविद्यालय के हिन्दी विभाग एवं मद्रास हिन्दी प्रचारक संघ के संयुक्त तत्वावधान में शनिवार को एकदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी, पुस्तक विमोचन एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। संगोष्ठी का विषय था-'अंतिम तीन दशकों के हिन्दी नाटकों के विविध परिदृश्यÓ।

मुख्य अतिथि दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा की उपकुलसचिव प्रो. डा. नजीम बेगम, विशिष्ट अतिथि भरतनाट्यम नृत्यांगना एवं नाट्य नायिका सरस्वती वासुदेवन व साहित्यकार डॉ. मधु धवन थी और अध्यक्षता लेखक रमेश गुप्त नीरद ने की। साथ ही समापन समारोह की विशिष्ट अतिथि दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा की पूर्व कुलसचिव प्रो. डा. एस. निर्मला मौर्य थी। संगोष्ठी की शुरुआत अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलन से हुई। इसके बाद डा. पद्मावती ने स्वागत भाषण प्रस्तुत किया। प्रचार संघ के गुरुमूर्ति ने अतिथियों का परिचय दिया एवं कॉलेज की ओर से उनका सम्मान किया गया। इस मौके पर डा. नजीम बेगम ने पुस्तक 'आदिवासी विमर्शÓ का विमोचन किया जिसकी पहली प्रति शशांक दुबे ने प्राप्त की। इस मौके पर डॉ. सरस्वती ने कहा, हिन्दी भाषा की मिठास ही अलग है। ये भाषा लिखने, बोलने एवं पढऩे तीनों में सरल है।


इसमें लोगों को आपस में जोडऩे की ताकत है। मधु धवन ने कहा, दक्षिण में हिन्दी लगातार विस्तार पा रही है। हर आदमी हिन्दी सीखने को लालायित है। प्रचारक संघ के अध्यक्ष के.वी रामचंद्रन ने हिन्दी हैं हम वतन, हिंदुस्तान हमारा...कविता पेश की। समारोह में 35 हिन्दी प्रचारकों ने पत्रवाचन किया। इस मौके पर हिन्दी प्रचारकों के.एम शिवकामसुंदरी और टी.एस जयलक्ष्मी का सम्मान किया गया।

समारोह का संचालन डॉ. कौशल्या एवं संयोजन कॉलेज की हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. हर्षलता शाह ने किया। समापन समारोह में डॉ. निर्मला मौर्य ने साहित्य और समाज के बारे में बताया। उन्होंने महाविद्यालयों के हिन्दी प्राध्यापकों को हिन्दी नाटक विधा में मौलिक लेखन करना चाहिए और अपने विद्यार्थियों द्वारा उनका मंचन करवाना चाहिए।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned