scriptIf areas were used for agrovoltaics, it could potentially transfo | ऊसर जमीन से निकलेगी दामिनी तो रोशन होगी ग्राम्य अर्थव्यवस्था | Patrika News

ऊसर जमीन से निकलेगी दामिनी तो रोशन होगी ग्राम्य अर्थव्यवस्था

-ग्रामीण अर्थव्यवस्था में जान डाल सकता है कृषि के साथ साथ बिजली उत्पादन

-एग्रोवोल्टेइक में भूमि क्षेत्र का उपयोग फोटोवोल्टिक बिजली उत्पादन और कृषि कार्य के लिए

-देश में 11 मिलियन हेक्टेयर कृषि भूमि खराब अवस्था में

चेन्नई

Published: January 12, 2022 10:30:37 pm

चेन्नई.

कृषि के साथ साथ बिजली का उत्पादन देश की ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए वरदान साबित हो सकता है। जो भूमि कृषि के लिए कम उपयोगी है उस पर कृषि वोल्टिक का उपयोग इकोनोमी के लिए रामबाण की तरह है। सौर पैनलों को इस तरह से लगाने से उनके नीचे खेती करने में दोहरे लाभ होते हैं। सौर पैनलों की छाया वाष्पीकरण-वाष्पोत्सर्जन को कम करती है और पानी की बचत करती है, और पैनल स्वयं अपने नीचे उगने वाले पौधों से शीतलन प्रभाव के कारण बढ़ी हुई दक्षता से लाभान्वित होते हैं। एलायंस फॉर रिवर्सल ऑफ इकोसिस्टम सर्विस थ्रेट्स ने भारत के अर्ध-शुष्क और उप-आर्द्र क्षेत्रों में 11 मिलियन हेक्टेयर खराब कृषि भूमि की पहचान की है। उद्योग जगत से जुड़े विशेषज्ञों की माने तो यदि ऐसे क्षेत्रों का उपयोग एग्रोवोल्टेइक के लिए किया जाता है, तो यह इन क्षेत्रों की ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बदल सकता है।
ऊसर ज़मीन से निकलेगी दामिनी तो रोशन होगी ग्राम्य अर्थव्यवस्था
ऊसर ज़मीन से निकलेगी दामिनी तो रोशन होगी ग्राम्य अर्थव्यवस्था
1000 मिमी या उससे कम वर्षा वाले क्षेत्र

सौर ऊर्जा के उत्पादन के लिए साल भर धूप से भरपूर खुली भूमि की आवश्यकता होती है। भारत के आधे से अधिक भूभाग धूप और अर्ध-शुष्क है, जहां हर साल 1,000 मिमी या उससे कम वर्षा होती है। यह भूमि इतनी शुष्क हैं कि वनों को भी सहारा नहीं दे सकती। वन्स (जिस पर सौर ऊर्जा का उत्पादन कर ग्रिड को दिया जाता है) पर ग्रिड-स्केल सोलर का एक वैकल्पिक समाधान सरकार की नीति में है जो सरकार ने रूफ-टॉप सोलर इंस्टॉलेशन के लिए बनाई गई है।
विशेषज्ञों के अनुसार हालांकि आवासीय छतों पर ग्रिड-स्केल सौर को लागू करने में चुनौतियां हो सकती हैं, लेकिन बड़े पैमाने पर पर्याप्त ऐसे स्थान जो पहले से ही औद्योगिक उद्देश्यों के लिए निर्मित या नामित किए गए हैं वहां सौर ऊर्जा का बड़े पैमाने पर उत्पादन संभव है। ये औद्योगिक क्षेत्र बिजली के प्रमुख उपभोक्ता हैं और ऐसे स्थानीय उत्पादन और उपयोग से ट्रांसमिशन घाटे में कमी आएगी। सार्वजनिक भवनों की छतें भी सौर प्रतिष्ठानों के लिए एक शानदार अवसर प्रदान कर सकती हैं, जो कुछ शहरों में रेलवे स्टेशनों के साथ किया गया है।
परियोजनाओं की स्थापना पर अधिक ध्यान देने की जरूरत

अक्षय ऊर्जा परियोजनाएं अच्छी तरह से अर्थपूर्ण हैं और जीवाश्म ईंधन पर आधारित ऊर्जा अर्थव्यवस्था पर हमारी निर्भरता को कम करना चाहती हैं। ऐसे में इन परियोजनाओं को कैसे और कहां स्थापित किया जाता है, इस पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है।
उदय मेहता

पार्टनर

आदित्य एनर्जी होल्डिंग।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कम उम्र में ही दौलत शोहरत हासिल कर लेते हैं इन 4 राशियों के लोग, होते हैं मेहनतीबाघिन के हमले से वाइल्ड बोर ढेर, देखते रहे गए पर्यटक, देखें टाइगर के शिकार का लाइव वीडियोइन 4 राशि की लड़कियों का हर जगह रहता है दबदबा, हर किसी पर पड़ती हैं भारीआनंद महिंद्रा ने पूरा किया वादा, जुगाड़ जीप बनाने वाले शख्स को बदले में दी नई Mahindra BoleroFace Moles Astrology: चेहरे की इन जगहों पर तिल होना धनवान होने की मानी जाती है निशानीइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवानहीं चाहिए अवार्ड! इन्होंने ठुकरा दिया पद्म सम्मान, जानिए क्या है वजहजिनका नाम सुनते ही थर-थर कांपते थे आतंकी, जानें कौन थे शहीद ASI बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रबिहार में तिरंगा फहराने के दौरान पाइप में करंट से बच्चे की मौत, कई झुलसेरेलवे का बड़ा फैसला: NTPC और लेवल-1 परीक्षा पर रोक, रिजल्‍ट पर पुर्नविचार के लिए कमेटी गठितएक गांव ऐसा भी: यहां इंसानियत ही सबसे बड़ा धर्मUP Assembly Elections 2022 : सपा सांसद आजम खां जेल से ही करेंगे नामांकन, कोर्ट ने दी अनुमतिहाईवे के ओवरब्रिजों में सीरियल बम प्लांट, जानिए सीएम योगी के लिए लेटर में क्या लिखा, Video
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.