आने वाली पीढ़ी को कुछ देना है तो पेड़ लगाएं

आने वाली पीढ़ी को कुछ देना है तो पेड़ लगाएं

Ashok Singh Rajpurohit | Publish: Sep, 10 2018 12:32:40 PM (IST) Chennai, Tamil Nadu, India


-राजस्थान पत्रिका व एक्सनोरा इंटरनेशनल का हरित प्रदेश अभियान

चेन्नई. घटते पेड़ों की वजह से बढ़ रही प्राकृतिक आपदाओं और दूषित हो रहे पर्यावरण को देखते हुए यह जरूरी हो गया है कि अधिकाधिक पेड़ लगाए जाएं। यदि हर व्यक्ति अपनी जिम्मेदारियों से भागेगा तो आने वाली पीढ़ी को इसका बुरा परिणाम भुगतना पड़ सकता है। इसी समस्या को मद्देनजर रखते हुए राजस्थान पत्रिका व एक्सनोरा इंटरनेशनल द्वारा जारी हरित प्रदेश अभियान के तहत रविवार को कुन्नूर हाई रोड पर स्थित दी मद्रास पिंजरापोल में पौधरोपण किया गया। साथ ही पौधों का वितरण भी किया गया। इससे पूर्व उपस्थितजनों ने कहा वर्तमान स्थिति को देखते हुए ऐसा लगता है यदि इसी तरह पेड़ कटते चले गए और नए पेड़ नहीं लगाए गए तो आने वाले समय में पानी बरसेगा ही नहीं और पूरी धरती सूनी हो जाएगी। इसलिए कटने के साथ पेड़ लगाना भी अत्यावश्यक है। यही नहीं पेड़ लगाने के साथ उनका संरक्षण करना भी हमारा कर्तव्य है। इस मौके पर एक्सनोरा इंटरनेशनल उत्तर चेन्नई के सचिव जे. फतेराज जैन ने कहा पर्यावरण को बचाने व वातावरण को हरा-भरा करने के उद्देश्य से यह अभियान चलाया जा रहा है। अगर पर्यावरण की रक्षा हम नहीं करेंगे तो इसका भुगतान कहीं न कहीं हमें और हमारी आने वाली पीढिय़ों को भुगतना पड़ेगा। पर्यावरण की रक्षा नहीं हुई तो जीवन में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। उन्होंने पर्यावरण सुरक्षा का संदेश देते हुए सभी से अधिकाधिक पेड़ लगाने का आग्रह किया। साथ ही कहा पर्यावरण ही हमारी जिंदगी है लेकिन हम कहीं न कहीं इसके साथ खिलवाड़ करने में लगे हैं जिसका हमें पता नहीं चल पा रहा है। यही प्रक्रिया अगर जारी रही तो मनुष्य अपने साथ पशु पक्षियों का जीवन भी संकट में डाल देगा। यदि हर व्यक्ति एक पौधा लगाकर उसकी सेवा करे तो हरियाली फैल जाएगी। इसलिए सभी को एक पौधा लगाने का लक्ष्य रखना चाहिए। इससे हम सही मायने में प्रकृति को रक्षा का उपहार दे पाएंगे। अध्यक्ष आर. गोविन्दराज ने कहा इस अभियान को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है। जैसे लोग गाय की सेवा करते हंै वैसे ही पेड़ों की सेवा करने के लिए आगे आना चाहिए।
महेन्द्र परमार ने कहा पर्यावरण के प्रति मानव को जागरूक करने का पत्रिका एवं एक्सनोरा इंटरनेशनल का यह प्रयास सराहनीय है। यह सही है लोग पेड़ काटते चले जा रहे हंै लेकिन इसके दुष्परिणाम कोई नहीं समझ पा रहा है। सभी को जीव सेवा की तरह ही पेड़ लगाकर पर्यावरण की रक्षा के लिए आगे आना चाहिए। भवनेश कुमार ने कहा अगर पर्यावरण दूषित हो जाएगा तो जीवन को स्वस्थ्य रख पाना बहुत ही मुश्किल होगा। पेड़ नहीं होंगे तो लोगों को सांस लेने के लिए आक्सीजन भी नहीं मिल पाएगी। जीव रक्षा के लिए पेड़ लगाना बहुत ही जरूरी है। इसके लिए सबको आगे आना चाहिए। आने वाली पीढ़ी को सही मायने में कुछ देना चाहते हैं तो पेड़ लगाने के लिए आगे आना चाहिए। इस मौके पर टी. विश्वनाथ, ए. तमिलमणि, अरविन्द और अमृत अग्रवाल सहित अनेक लोगों ने भी विचार रखे।


पेड़ कटने के साथ ही जल व वायु प्रदूषण बढ़ रहा है, इससे अनेक बीमारियां उत्पन्न हो रही हैं। इनण्े बचने के लिए सभी को आगे आकर पेड़ लगाने का संकल्प लेना चाहिए।
- अनिता जितेन्द्र
वर्तमान में पेड़ बचाना बहुत जरूरी हो गया है। अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए लोग लगातार पेड़ काटे जा रहे हैं लेकिन उनकी जगह नए पेड़ नहीं लगा रहे हैं। पर्यावरण बचाने के लिए सभी को पेड़ लगाने के लिए आगे आना चाहिए।
- सरिता ढड्ढा
आज पृथ्वी पर से लगातार पेड़ कटने की वजह से प्राकृतिक आपदाओं का भी सामना करना पड़ रहा है फिर भी लोगों की आंखें नहीं खुलती। अब भी समय है अधिकाधिक पेड़ लगाकर हम अपने पर्यावरण को बचा सकते हैं।
- रेखा कोठारी
पेड़-पौधों से ही ऑक्सीजन मिलती है, यदि पेड़ ही कट जाएंगे तो ऑक्सीजन भी मिलना बंद हो जाएगी जिससे पृथ्वी पर जीवों का बचना मुश्किल हो जाएगा। न बारिश होगी और न लोगों को पानी मिलेगा।
- जितेन्द्र ढड्ढा
धरती पर पेड़-पौधे हमारे जीवन का मूल स्रोत है। ये नहीं होंगे तो पानी ही नहीं बरसेगा और न खेती ही होगी जिसके कारण अनाज का संकट खड़ा हो जाएगा। साथ ही जीने के लिए ऑक्सीजन भी नहीं मिलेगी जिससे जीवों का जीवित रहना असंभव हो जाएगा।
- कल्पेश मेहता

Ad Block is Banned