राजस्थान मूल के आईपीएस ओमप्रकाश मीणा ने लॉकडाउन में निभाई अहम भूमिका

राजस्थान के अलवर जिले के राजगढ़ तहसील के छोटे से गांव बाबेली के रहने वाले ओमप्रकाश मीणा चार वर्ष तक राजस्थान स्टेट सेवा में सेवाएं दे चुके हैं। 2012 बैच के आईपीएस मीणा ने तमिलनाडु के तंजावुर में एएसपी (प्रशिक्षण), मदुरै के उमाचीकुलम में एएसपी, चेन्नई में सीबी-सीआईडी के एसपी और रामनाथपुरम में पुलिस अधीक्षक रह चुके हैं।

By: Ashok Rajpurohit

Updated: 22 Jun 2020, 09:24 PM IST

चेन्नई. राजस्थान मूल के आईपीएस अधिकारी तिरुनेलवेली पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश मीणा कोरोना कर्मवीर के रूप में डटे हुए हैं। चाहे जिले के प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह प्रदेश तक भिजवाना हो, उनको सोशल डिस्टेसिंग के प्रति जागरुक करना हो, कंटेंट ट्रेसिंग करनी या होम क्वारंटाइन करवाना हो, कंटेनमेन्ट जोन की व्यवस्था संभालनी हो या चैकपोस्ट की कड़ी निगरानी हो। उनके नेतृत्व में जिले की पुलिस ने इन सारी व्यवस्थाओं को बखूबी अंजाम दिया है।
तिरुनेलवेली जिला स्थित कुडनकुलम पावर प्लांट में कार्यरत बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों ने घर जाने की मांग को लेकर प्लांट के बाहर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया था। उनको समझाया और प्रदेशवार श्रमिकों की सूची बनाई गई। फिर जिला कलक्टर एवं रेलवे के साथ समन्यव स्थापित कर उनके लिए विशेष ट्रेनों का प्रबध करवाया गया। करीब नौ हजार श्रमिकों को उनके गृह प्रदेश भेजा गया। लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क का महत्व समझाया।
फर्जी पास वालों के खिलाफ मामले
मीणा ने बताया कि तिरुनेलवेली जिला बॉर्डर पर चैकपोस्ट लगाकर अन्य जिलों से आने वाले वाहनों की जांच की गई। वहीं एक क्वारंटाइन सेन्टर बनाया गया। चेन्नई एवं अन्य जिलों से आने वाले लोगों के यहीं पर टेस्ट किए जाते और रिजल्ट भी वहीं जारी होते थे। नेगेटिव रिजल्ट आने वालों को उनके घर एवं पाजिटिव रिपोर्ट आने पर सीधे अस्पताल भेजा जाता। इसके अलावा अन्य प्रदेशों से पास लेकर आने वालों के साथ ही वाहन जांच भी की जाती थी। कई लोगों ने फर्जी पास बना लिए। पास पर बार कोड होता था। चैक पोस्ट पर पुलिस को मोबाइल उपलब्ध कराए गए जिससे स्कैन कर बार कोड की जांच कर ली जाती। फर्जी पास लेकर आने वालों के खिलाफ मामले दर्ज किए गए।
जरूरत की आपूर्ति करवाई
मीणा ने बताया कि संक्रमित हुए लोग किन-किन लोगों के संपर्क में आए, इसकी पहचान का काम भी पुलिस ने किया। संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों की पहचान कर उनके टेस्ट भी करवाए। ऐसे लोगों की कंटेंट ट्रेसिंग की गई। होम क्वारंटाइन रखे लोगों की निगरानी भी पुुलिस के जिम्मे थी। जहां पाजिटिव मामले थे वहां पांच सौ मीटर के दायरे में कन्टेनमेन्ट जोन बनाए गए जिनमें आवागमन पूरी तरह वर्जित था। वहां पुलिस व वालंटियर्स की मदद से खाद्य एवं अन्य जरूरत की आपूर्ति की व्यवस्था करवाई गई।
जीवन परिचय
राजस्थान के अलवर जिले के राजगढ़ तहसील के छोटे से गांव बाबेली के रहने वाले ओमप्रकाश मीणा ने एमए (इतिहास) की शिक्षा प्राप्त की है। मीणा चार वर्ष तक राजस्थान स्टेट सेवा में सेवाएं दे चुके हैं। 2012 बैच के आईपीएस मीणा ने तमिलनाडु के तंजावुर में एएसपी (प्रशिक्षण), मदुरै के उमाचीकुलम में एएसपी, चेन्नई में सीबी-सीआईडी के एसपी और रामनाथपुरम में पुलिस अधीक्षक रह चुके हैं। मीणा नव बर 2019 से तिरुनेलवेली के पुलिस अधीक्षक पद पर कार्यरत हंै।

Show More
Ashok Rajpurohit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned