डीएमके से निलंबित नेता रामलिंगम ने थामा बीजेपी का हाथ: बोले- एमके अलगिरी को पार्टी में लाऊंगा

बीजेपी को पहुंचाएंगे लाभ

By: PURUSHOTTAM REDDY

Updated: 21 Nov 2020, 04:06 PM IST

चेन्नई.

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) के तमिलनाडु (Tamilnadu) दौरे का असर दिखने लगा है। उनके चेन्नई पहुंचने से पहले शनिवार को डीएमके (DMK) के निलंबित सांसद केपी रामलिंगम (MP KP Ramalingam) ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सदस्यता ली। अगले वर्ष तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी ने सियासी सक्रियता बढ़ा दी है। इसकी एक झलक शनिवार को तमिलनाडु में दिखाई भी दी है।

बीजेपी में शामिल होने के बाद उन्होंने तमिलनाडु में बड़े उलटफेर के संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द मैं डीएमके नेता एमके स्टालिन के बड़े भाई एमके अलगिरी को भी बीजेपी में लाने की कोशिश करूंगा। डीएमके से निकाले गए एमके अलगिरी अपना अलग संगठन बनाने की तैयारी में हैं। बताया जा रहा है कि उनकी पार्टी का नाम कलैनार द्रविड़ मुनेत्र कझगम हो सकता है।

केपी रामलिंगम अलगिरी के काफी करीबी माने जाते हैं। उन्होंने तमिलनाडु के बीजेपी प्रभारी सीटी रवि से मुलाकात कर अमित शाह से मिलने का समय मांगा था। इसके बाद उन्होंने बीजेपी जॉइन कर ली।

बीजेपी को पहुंचाएंगे लाभ
बता दें कि पूर्व सांसद केपी रामलिंगम को डीएमके प्रमुख एमके अलागिरी का विरोधी और उनके बड़े भाई का करीबी नेता माना जाता है। करुणानिधि के निधन के बाद रामलिंगम ने अलगिरी के बड़े भाई को डीएमके प्रमुख बनाने को लेकर अभियान चलाया था। तभी से डीएमके प्रमुख उनसे नाराज चल रहे हैं। अब इस बात की संभावना जताई जा रही है कि वो आगामी चुनाव में डीएमके को नुकसान पहुंचा सकते हैं। तय है कि इसका सीधा लाभ बीजेपी को मिलेगा।

BJP
PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned