पीएम मोदी की तस्वीर छेडछाड़ कर शेयर किया, अग्रिम जमानत के लिए कोर्ट में कहा "एक साल तक सोशल मीडिया से दूर रहूंगा"

Kanyakumari man-give-an-undertaking-that-he-will-not-use-social-media for one year

कन्याकुमारी.

तमिलनाडु (Tamilnadu) के कन्याकुमारी (Kanyakumari) जिले में रहने वाले एक व्यक्ति को प्रधानमंत्री मोदी Primeminister Modi की तस्वीर से छेडछाड कर सोशल मीडिया social media पर शेयर करना भारी पड़ गया। कोर्ट से अग्रिम जमानत के लिए उसे हलफनामा देना पड़ा जिसमें उसने कहा कि वह एक साल तक सोशल मीडिया से दूर रहेगा। जानकारी के मुताबिक जबिन चाल्र्स नाम के व्यक्ति ने करीब एक महीने पहले सोशल मीडिया पर पीएम मोदी की छेडछाड की हुई तस्वीर पोस्ट की थी। स्थानीय भाजपा पदाधिकारी ननजील राजा ने तस्वीर पोस्ट करने के बाद वडासरी पुलिस स्टेशन में केस दर्ज करा दिया।


एक साल तक सोशल मीडिया से रहेगा दूर
इसके बाद चाल्र्स को अग्रिम जमानत के लिए मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै खंडपीठ के पास पहुंचा। युवक ने अदालत में हलफनामा देकर कहा कि वह एक साल तक सोशल मीडिया का इस्तेमाल नहीं करेगा। युवक ने जस्टिस जीआर स्वामिनाथन के सामने इस बात का हलफनामा दिया। उसने कहा कि वह सोशल मीडिया से दूर रहेगा और ऐसी हरकते दोबारा नहीं करेगा।

 

अग्रिम जमानत हो सकती खारिज
इस पर जस्टिस ने कहा कि यदि चाल्र्स सोशल मीडिया का प्रयोग करता हुआ पाया जाता है तो पुलिस उसकी अग्रिम जमानत खारिज करने के लिए अदालत में याचिका दाखिल कर सकती है। जज ने व्यक्ति को संबंधित अधिकारक्षेत्र में आने वाली अदालत में एक माफीनामा भी लिखकर देने का निर्देश दिया। इससे पहले अपने हलफनामे में चाल्र्स ने अपने कृत्य पर खेद व्यक्त किया। उसने कहा कि जैसे ही मुझे यह आभास हुआ कि किसी भी नागरिक को प्रधानमंत्री का अपमान करने का अधिकार नहीं है वैसे ही मैंने तुरंत उस तस्वीर को ब्लॉक कर दिया।

 

अपने विचार रखना अपराध नहीं
हालांकि, उसने सुप्रीम कोर्ट के उस ऑब्जर्वेशन का भी उल्लेख किया जिसमें स्पष्ट रूप से कहा गया था कि फेसबुक जैसे सार्वजनिक मंच पर अपने विचार रखना अपराध नहीं है। इसके बावजदू चाल्र्स ने माफी की मांग की।

 

महादेव ने दाखिल की हलफनामा
इसी तरह से एक अन्य मामले में हाईकोर्ट की मदुरै पीठ ने महादेव नाम के व्यक्ति की भी अग्रिम जमानत दे दी। महादेव के खिलाफ मुस्लिम समुदाय के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने से जुड़ा मामला था। अदालत ने महादेव को भी एक साल तक सोशल मीडिया से दूर रहने की शर्त पर अग्रिम जमानत दी। अदालत ने महादेव से माफी मांगने और इस सबंध में एक हलफनामा दाखिल करने को कहा।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned