पेरम्बलूर की सरकारी शिक्षिका ने लोगों की मदद के लिए 50 हजार का किया दान

पिछले साल कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए जारी लॉकडाउन के दौरान जिले के एलाम्बलूर गांव में स्थित सरकारी स्कूल की के. बैरवी नामक शिक्षिका ने

By: Vishal Kesharwani

Published: 02 May 2021, 11:02 AM IST


-विद्यार्थियों को 16 स्मार्टफोन भी दिए
पेरम्बलूर. पिछले साल कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए जारी लॉकडाउन के दौरान जिले के एलाम्बलूर गांव में स्थित सरकारी स्कूल की के. बैरवी नामक शिक्षिका ने विद्यार्र्थियों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए 16 स्मार्टफोन खरीद कर दिए थे, ताकि वे ऑनलाइन कक्षाओं से वंचित ना हों। मोबाइल खरीदने में भले ही उनका एक लाख खर्च हुआ था, लेकिन विद्यार्थियों की काफी हद तक मदद हुई थी। इस साल भी गणित की शिक्षिका ने कोरोना की दूसरी लहर से प्रभावित हुए लोगों की मदद करने के उद्दश्य से कोविड कोष के रूप में जिला कलक्टर को 50 हजार का डिमांड ड्राफ्ट प्रदान किया।

 

गुरुवार को बैरवी ने पेरम्बलूर कलक्टर पी. श्री वेंकट प्रिया को 50 हजार प्रदान किया। उन्होंने कहा कि उनके बच्चों ने उन्हें ऐसा करने का सलाह दिया था और उसके आधार पर लोगों की सहायता करने की पहल शुरू की। पिछले साल विद्यार्थियों की शिक्षा प्रभावित हो रही थी जिसके बाद मैने उन्हें मोबाइल फोन खरीद कर दिया। इतना ही नहीं बल्कि अब तक उनके सिम का रिचार्ज भी मै कराती आई हूं।

 

दैनिक आधार पर विद्यार्थियों से संपर्क कर उनके शिक्षा से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करती हूं। उन्होंने कहा कि जब उन्हें पता चला कि उनका जिला कोरोना मुक्त हो चुका है तो वे बेहद खुश हुंई थी, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर आई और मै फिर से दुखी हो गई। जिसके बाद मेरे बच्चों ने इस साल भी मदद करने का सुझाव दिया, लेकिन मुझे कोविड मरीजों की कैसे सहायता करुं के बारे में पता नहीं था। जिसके बाद मैने कलक्टर के नाम पर 50 हजार का डिमांड ड्राफ्ट बनवाया और कलक्टर को सौंप दिया।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned