जैन कॉन्फ्रेंस तमिलनाडु के चुनाव को लेकर बैठक

अखिल भारतीय जैन कॉन्फ्रेंस तमिलनाडु के आगामी चुनाव के मद्देनजर मंगलवार को आयोजित बैठक में सामाजिक हित को देखते हुए वर्तमान अध्यक्ष...

By: मुकेश शर्मा

Published: 30 Dec 2018, 10:53 PM IST

चेन्नई।अखिल भारतीय जैन कॉन्फ्रेंस तमिलनाडु के आगामी चुनाव के मद्देनजर मंगलवार को आयोजित बैठक में सामाजिक हित को देखते हुए वर्तमान अध्यक्ष आनंदमल छल्लाणी ने प्रांतीय उम्मीदवार के रूप में सी महावीरचंद भंडारी को अपना पूर्ण सहयोग और समर्थन देने का आश्वासन दिया। सी महावीरचंद भंडारी ने छल्लाणी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि मैं आपकी हर बात पर खरा उतरते हुए दिल से समाज की सेवा करूंगा और सबको साथ को लेकर चलूंगा।

इस अवसर पर सुनील खेतपालिया ने कहा कि सामाजिक एकता के लिए समाज में चुनाव नहीं चयन होना चाहिए। बैठक में मीठालाल पगारिया, एच महावीरचंद भंडारी, सुरेशचंद कोठारी, प्रकाशचंद बोहरा, विजयराज गडवाणी भी उपस्थित थे।

जहां भी रहें समस्या नहीं समाधान बनकर रहें

वेपेरी में सुवालाल महावीर कर्णावट के निवास पर उपाध्याय प्रवर प्रवीणऋषि कहा आप डिस्टर्ब होना पसंद नहीं करते लेकिन दूसरों को डिस्टर्ब करना पसंद करते रहते हैं। इससे वे तो डिस्टर्ब होंगे या नहीं होंगे आप स्वयं डिस्टर्ब हो जाओगे। कोई हमें परेशान नहीं कर सकता बल्कि हम स्वयं परेशान हो जाते हैं। सामने वाला आपको परेशान जरूर करेगा लेकिन यह अपना स्वयं का निर्णय है। पशुओं के तो चलने से धूल उड़ती है लेकिन हमारे तो जीने, बोलने और देखने से भी धूल उड़ती है। परमात्मा तीर्थंकर महावीर जब चलते हैं तो उनके चरणों के निशान भी जमीन पर नहीं होते। उनके जितना शरीर न बना सको तो अपना मन तो बना ही सकते हैं। जितना हल्का बनेंगे उजाला बनेंगे और भारी बनेंगे तो अंधियारा बन जाएंगे।

परमात्मा कहते हैं कि जो हल्की होगी उसके जीवन में उजाला होगा नहीं तो अंधियारा होगा। जो जिससे प्यार करता है वही उसके पास रहता है। उजाले से प्यार करोगे तो वह आपके पास अवश्य आएगा।
भगवान महावीर चंदनबाला के पास स्वयं पहुंचे। इसके लिए उन्हें तपस्या भी करनी पड़ी। उन्हें हर व्यक्ति आहार प्रेम और भक्ति से देना चाहता था फिर भी परमात्मा ने तय कर रखा था चंदनबाला से ही आहार ग्रहण करने का। आपको भी अपने घरवालों से इसी प्रकार प्रेम करना चाहिए। जब अन्तर में भक्ति का उजाला होता है तो चंदनबाला की तरह अंधेरी काल-कोठरी में डालने पर भी प्रकाशमान रहता है। जिसने एक बार उस उजाले के साथ दोस्ती कर ली, वो नरक में भी जाए तो उसके मन में राजा श्रेणिक के समान अंधियारा और नकारात्मकता नहीं आ सकती।

आप अपने स्वजनों से जख्मी होते हो और स्वजनों को जख्मी भी करते हो। अपनों का दुश्मन कभी मत बनो। जब आपसे प्यार करने वाले आपके साथ रहकर खुश नहीं रह सकते तो इससे बड़ी नादानी क्या होगी। आप दुश्मन को आप दु:ख दे सकते हैं लेकिन अपने मदद और सपोर्ट करने वाले स्नेहीजन, जिनके बिना आप जीवित नहीं रह सकते उसको दु:ख और कष्ट देना कहां उचित है। रिश्ता डेवलप करने का होना चाहिए, न कि डिस्टर्ब करने का।

जहां कहीं भी रहो, समाधान बनकर रहो, समस्या बनकर मत रहो। अपने परिवार के साथ रहते हुए तो यह निश्चय अवश्य कर लें। राजनीति में केवल वादे चलते हैं और धर्मसभा में वचनबद्धता और कमिटमेंट से चलते हैं। अपने वचन को जिंदा रखने की जिम्मेदारी आप स्वयं पर है दूसरों पर नहीं।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned