हिन्दी की मांग एवं रोजगार के अधिक अवसर

हिन्दी की मांग एवं रोजगार के अधिक अवसर

Mukesh Kumar Sharma | Publish: Mar, 17 2019 09:59:33 PM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

श्रीशंकरलाल सुंदरबाई शसुन जैन महिला महाविद्यालय में ‘शसुन क्षितिज’ के अंतर्गत अतिथि व्याख्यान का आयोजन सोमवार को किया गया। व्याख्यान का मुख्य...

चेन्नई।श्रीशंकरलाल सुंदरबाई शसुन जैन महिला महाविद्यालय में ‘शसुन क्षितिज’ के अंतर्गत अतिथि व्याख्यान का आयोजन सोमवार को किया गया। व्याख्यान का मुख्य विषय ‘हिन्दी का भविष्य’ था जिसमें अतिथि के रूप में आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के पोते डॉ. कृष्णलाल शुक्ला थे। वे इस समय सेन्ट जॉन्स विद्यालय में हिन्दी विभागाध्यक्ष के रूप में कार्यरत हैं।

हिन्दी के महत्व को बताते हुए उन्होंने तमिलनाडु में हिन्दी की दशा एवं दिशा पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि आज हिन्दी की मांग तथा रोजगार के अवसर केवल उत्तर भारत में ही नहीं बल्कि दक्षिण भारत में भी अधिक है।

हिन्दी के भविष्य को हर क्षेत्र से जोड़ते हुए उन्होंने अनेक उदाहरणों द्वारा बताया कि आज सी.बी.एस.सी. में टॉप करने वाले तमिल भाषी ज्यादा हैं क्योंकि उनमें हिन्दी सीखने की ललक और जिज्ञासा है। हिन्दी व्याकरण में होने वाली त्रुटियों एवं पर्यायवाची शब्दों का प्रयोग किस प्रकार किया जाए इसे उन्होंने बखूबी बताया तथा छात्राओं द्वारा किए सवालों के जवाब दिए। साथ ही उनकी समस्याओं का सरल ढंग से समाधान बताया। अपने अनुभव को साझा करते हुए उन्होंने भविष्य में हिन्दी की महत्ता पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में अतिथि का परिचय हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. हर्षलता शाह एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ. सरोज सिंह ने किया।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned