मुम्बई कमिश्नर चारण का चेन्नई में किया स्वागत

मुम्बई कमिश्नर चारण का चेन्नई में किया स्वागत
Mumbai commissioner Charan welcomes welcome to Chennai

Mukesh Kumar Sharma | Updated: 28 Apr 2019, 10:31:32 PM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

मुम्बई कमिश्नर अजीत सिंह चारण का चेन्नई में चारण समाज द्वारा स्वागत किया गया। वे एक दिन के चेन्नई दौरे पर आए थे। इस दौरान चारण समाज के ...

चेन्नई।मुम्बई कमिश्नर अजीत सिंह चारण का चेन्नई में चारण समाज द्वारा स्वागत किया गया। वे एक दिन के चेन्नई दौरे पर आए थे। इस दौरान चारण समाज के हिंगलाजदान चारण आकली ने शॉल एवं गुलदस्ता भेंट कर स्वागत किया गया।

अजीत सिंह चारण आईआरएस अधिकारी हैं। और मुम्बई में अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क डिप्टी कमिश्नर जी.एस.टी. के पद पर हैं। कमिश्नर ने चारण समाज के सरकारी अधिकारियों से भी मुलाकात की। चारण ने सभी अधिकारियों को कहा कि सच्चे तन मन और दिल से सेवा करें। कमिश्नर ने चेन्नई में चारण समाज की जानकारी ली। इसके अलावा काफी अन्य समाज के लोगों ने भी इसमें भाग लिया। कमिश्नर ने समाज सुधार को लेकर चर्चा की।

इस दौरान पारस जैन जावाल, महामन्त्री अखिल भारतीय राजस्थानी प्रवासी महासंघ, बलवंत दान चारण इंस्पेक्टर जीएसटी और केंद्रीय उत्पाद शुल्क,भुवनेश कुमार उज्जवल इंस्पेक्टर आयकर चेन्नई, अरविंद कुमार एग्जामिनेशन ऑफिसर कस्टम्स चेन्नई, दिनेश पटेल गुलाब एवं काफी लोग उपस्थित थे।

मदुरै जिला प्रशासन ने किया तहसीलदार समेत चार को निलंबित

सीपीआई (एम) के लोकसभा उम्मीदवार सु. वेंकटेशन ने शनिवार रात को कहा कि जिला तहसीलदार सहित चार अधिकारियों ने बिना किसी को सूचित किए ही मतगणना केंद्र में प्रवेश किया और चुनावी दस्तावेजों की छानबीन की। तहसीलदार महिला शम्भूराम तीन अन्य अधिकारियों के साथ कथित तौर पर ३.१५ से ६.१५ बजे तक मतगणना केंद्र में गई थी। उनमें से दो अधिकारियों ने चुनावी दस्तावेज निकाल कर उनकी फोटोकॉपी भी ली।

पत्रकारों से बातचीत में सु. वेंकटेशन ने बताया कि इस मामले की शिकायत कर जल्द से जल्द कार्रवाई करने का आग्रह किया गया है। मामले का खुलासा इमारत में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज से हुआ है जिसके बाद तहसीलदार सहित चार अधिकारियों को निलंबित भी कर दिया गया। जिला चुनाव अधिकारी और कलक्टर एस. नटराजन ने मामले में विस्तृत जांच का आदेश दिया है।

रविवार को पत्रकारों से बातचीत में राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी सत्यब्रत साहू ने कहा कि अधिकारी सिर्फ स्टोर रूम में ही गए थे, स्ट्रांग रूम में नहीं घुसे थे।
कड़ी सुरक्षा होने की वजह से ईवीएम और वीवीपैट रखे गए मतगणना केंद्र में घुसना इतना आसान भी नहीं है। वहां पर २४ घंटे सीसीटीवी कैमरे संचालित रहते हैं और उसकी फुटेज डीईओ कार्यालय जाती है। ऐसे में तहसीलदार सिर्फ स्टोर रूम तक ही गई होंगी।

उन्होंने कहा कि मामले की जांच चल रही है और यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि तहसीलदार महिला ने रूम में जाने से पहले जिला चुनाव अधिकारी से अनुमति ली थी या नहीं। मामले की जानकारी के बाद अधिकारियों द्वारा प्रतिक्रिया करने में हुई देरी की वजह से गुस्साए लोग घटनास्थल पर इकठ्ठा हुए और नारेबाजी भी की।


उसके बाद जिला चुनाव अधिकारी नटराजन वहां पहुंचे और लोगों को शांत कराया। नटराजन ने कहा डीईओ से पूर्व अनुमति लिए बिना अगर कोई अधिकारी कमरे में प्रवेश करता है तो यह सुरक्षा व्यवस्था पर चिंता करने जैसी बात है लेकिन ईवीएम और वीवीपैट रखे जाने वाले स्ट्रांग रूम का उल्लंघन नहीं हुआ है। साथ ही उन्होंने सभी कमरों को सील करने का आदेश दिया। इसी बीच अम्मा मक्कल मुनेत्र कषगम पार्टी के लोकसभा उम्मीदवार के. डेविड अन्नादुरै ने भी मामले पर चिंता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि ऐसे हालात को गंभीरता से लेते हुए चुनाव अधिकारियों को विस्तृत जांच करानी चाहिए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned