मेरे पोते, पड़पोते हैं, निर्मला देवी को नहीं जानता : राज्यपाल

मेरे पोते, पड़पोते हैं, निर्मला देवी को नहीं जानता : राज्यपाल

P.S.Vijayaraghavan | Publish: Apr, 17 2018 09:03:09 PM (IST) Chennai, Tamil Nadu, India

तमिलनाडु को झकझोरने वाले अरुप्पुकोट्टै कॉलेज मामले में राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने मंगलवार को आनन-फानन में बुलाए गए संवाददाता सम्मेलन

छात्राओं से अनैतिक कार्य कराने का मामला

आरोपित महिला सहायक प्रोफेसर से कभी नहीं मिला
चेन्नई. तमिलनाडु को झकझोरने वाले अरुप्पुकोट्टै कॉलेज मामले में राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने मंगलवार को आनन-फानन में बुलाए गए संवाददाता सम्मेलन में सफाई दी कि वे इस प्रकरण में गिरफ्तार कॉलेज की सहायक प्रोफेसर निर्मला देवी को न तो जानते हैं और न ही उनसे कभी मिले हैं।
गौरतलब है निर्मला देवी पर आरोप है कि अरुप्पुकोट्टै कॉलेज की छात्राओं को मदुरै कामराज विश्वविद्यालय के वरिष्ठ अधिकारियों को अनैतिक तरीके से खुश करने का प्रलोभन दिया ताकि उनका और कॉलेज का फायदा हो सके। छात्राओं से उनकी इस तरह की बात का ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। इस आधार पर न केवल निर्मला को गिरफ्तार किया गया बल्कि उनको निलंबित भी कर दिया।
राज्यपाल और उनके ताल्लुकात को लेकर उपजे सवालों के बीच बनवारीलाल पुरोहित ने राजभवन में सफाई दी। बनवारीलाल बोले कि उन्होंने निर्मला देवी का चेहरा तक नहीं देखा है। ‘मेरे पोते और पड़पोते हैं... मैं ७८ साल का हूं, लिहाजा मैं अपने ऊपर लगे सभी आरोप झुठलाता हूं।’
पत्रकारों ने उनसे सवाल किया कि जब निर्मला देवी के ऑडियो में गवर्नर का जिक्र है तो क्या यह बेहतर नहीं होगा कि वे जांच से दूर रहें। उल्लेखनीय है कि राज्यपाल ने ही मामले की जांच के लिए रिटायर्ड आइएएस अधिकारी संतानम को नियुक्त किया है जो 30 तक अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे।
राज्यपाल ने एक सवाल के जवाब में पूछा कि क्या आपने ऑडियो सुना है? उसने मेरा संदर्भ दादा के रूप में दिया है। यह कहने के बाद भी बनवारीलाल पुरोहित ने दोहराया कि वे निर्मला देवी को नहीं जानते हैं। उनके द्वारा जांच समिति के गठन को पुरोहित ने अपना संवैधानिक अधिकार बताया और साथ ही सीबीआई जांच को अनावश्यक माना।
राज्यपाल ने स्पष्ट किया कि उनकी पूरी जिन्दगी पारदर्शी रही है। उनसे पूछा गया कि जांच समिति के अनुसंधान में क्या निष्पक्षता रहेगी अगर वह उनको रिपोर्ट करती है? इस पर उनका जवाब था कि सभी को यही उम्मीद है।
कावेरी और अन्य मसलों पर शांत रहते हुए आज यह संवाददाता सम्मेलन बुलाए जाने की वजह पूछने पर राज्यपाल ने कहा कि बतौर राज्य के प्रथम व्यक्ति छह महीने पूरे करने की पृष्ठभूमि में आप लोगों से मिल रहा हूं। हालांकि उनके साथ मदुरै कामराज विवि के कुलपति पी. पी. चेल्लदुरै की मौजूदगी पर वे संतोषजनक जवाब नहीं दे सके।

Ad Block is Banned