नागपट्टिनम में सरकार बनाएगी एक लाख घर

मुख्यमंत्री एडपाडी के. पलनीस्वामी और उपमुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने गुरुवार को गाजा चक्रवात से प्रभावित हुए नागपट्टिनम और तिरुवारूर...

By: मुकेश शर्मा

Published: 30 Dec 2018, 11:29 PM IST

चेन्नई।मुख्यमंत्री एडपाडी के. पलनीस्वामी और उपमुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने गुरुवार को गाजा चक्रवात से प्रभावित हुए नागपट्टिनम और तिरुवारूर जिलों का दौरा कर नुकसान का आकलन किया। मुख्यमंत्री ने प्रभावितों में राहत सामग्री का भी वितरण किया। उन्होंने नागपट्टिनम पंचायत यूनियन कार्यालय, जहां पर बड़ी संख्या में प्रभावित लोग ठहरे हुए हैं, से मुलाकात करने के साथ ही उन्होंने व उपमुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने खाना भी खाया।

साथ ही उन्होंने नागपट्टिनम के प्रतापरामपुरम, कोविलपट्टु, नालुवेट्टपट्टी, पुष्पावनम, वेदारण्यम और तिरुतुरैपांडी सहित बुरी तरह प्रभावित हुए इलाकों का दौरा कर क्षति का जायजा लिया। उन्होंने ७४ लाख की लागत से ६०७ प्रभावितों में राहत सामग्री का वितरण किया। वेदारण्यम में पत्रकारों को मुख्यमंत्री ने बताया कि गाजा चक्रवात की वजह से जिले में बहुत ज्यादा क्षति हुई है। इसमें एक लाख से अधिक घर बर्बाद हो गए और १५ से अधिक लोगों की मौत भी हो गई। इसके अलावा लाखों लोगों को बचा कर शिविरों में रखा गया है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा बेघर हुए लोगों के लिए एक लाख घर बनवाए जाएंगे। सरकार की ओर से राहत वितरण में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं किया जाएगा।

पलनीस्वामी ने कामेश्वरम गांव जाकर क्षतिग्रस्त हुए टीएनईबी सब-स्टेशन का भी निरीक्षण किया। इससे पहले उन्होंने जिला कलक्टर सी. सुरेशकुमार सहित अन्य उच्चाधिकारियों के साथ बैठक कर जारी राहत कार्यों की समीक्षा की।

इसके बाद मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री तिरुवारूर पहुंचे जहां नुकसान का आकलन कर लोगों से बातचीत की। मुख्यमंत्री ने प्रभावितों को हरसंभव सहयोग का आश्वासन दिया।


फर्जी जीएसटी बिल मामले में एक और व्यक्ति गिरफ्तार

नकली जीएसटी चालान मुद्दे की जांच पर गंभीर रुख दिखाते हुए उत्तरी चेन्नई के जीएसटी एवं केंद्रीय उत्पाद शुल्क आयुक्त कार्यालय के अधिकारी बिल व्यापारियों की गतिविधियों पर नजर बनाए हुए हैं। अधिकारियों ने पाया कि दिलीप कुमार (45) ने नकली चालानों के माध्यम से फर्जी कंपनियों के आधार पर इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ उठाकर उसे अन्य कंपनियों को दिया है ताकि बिना माल की रसीद के वे इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ प्राप्त कर सकें। दिलीप द्वारा अपराध कबूलने के बाद 27 नवंबर को उसे गिरफ्तार कर लिया गया। प्रथम दृष्टया यह प्रतीत होता है कि उसने स्टील, केमिकल आदि वस्तुओं पर नकली जीएसटी चालान प्राप्त किए और धोखाधड़ी के इरादे से बिना माल भेजे उसे आगे बढ़ा दियौ। अधिकारियों ने बताया कि मामले की जांच अभी जारी है।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned