कोरोना परीक्षण में वृद्धि करने की जरूरत

पिछले कुछ दिनों से कोरोना के मामलों में लगातार गिरावट देखी जा रही है जो कि काफी राहत की बात है,

By: Vishal Kesharwani

Published: 20 Nov 2020, 03:29 PM IST


चेन्नई. पिछले कुछ दिनों से कोरोना के मामलों में लगातार गिरावट देखी जा रही है जो कि काफी राहत की बात है, लेकिन कुछ वर्गो का कहना कि दैनिक आधार पर कोरोना परीक्षण की संख्या में कमी लाए जाने की वजह से ही मरीजों की संख्या में कमी दर्ज की जा रही है। दीपावली से पहले महानगर में दैनिक आधार पर 11 हजार कोरोना परीक्षण किया जाता था, लेकिन पिछले कुछ दिनों से 7 से 9 हजार के बीच ही परीक्षण किया जा रहा है। इसलिए मरीजों की संख्या में कमी आने का मुख्य कारण परीक्षण की संख्या में कमी लाना है। विशेषज्ञों को लगता है कि अधिक संख्या में परीक्षण होने के बाद ही वायरस के प्रसार का पता लगाया जा पाएगा, क्योंकि दीपावली के बाद कोरोना स्पाइक का अनुभव लगाया जा रहा है।

 

ग्रेटर चेन्नई कार्पोरेशन द्वारा जारी डाटा के अनुसार शुक्रवार सुबह तक कोरोना मरीजों की कुल संख्या 4 हजार 567 थी। लॉकडाउन के बाद से चेन्नई में 2 लाख 10 हजार 601 मामले दर्ज हुए है और इनमें से 2 लाख 2 हजार 242 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। इस प्रकार से महानगर में रिकवरी दर 96 प्रतिशत है। गुरुवार को सिटी कार्पाेरेशन स्वास्थ्य विभाग द्वारा 9009 कोरोना परीक्षण किए गए थे। वर्तमान में अन्ना नगर में 382 और कोड़मबाक्कम में 294 पॉजिटिव मामले हैं। मनाली में 49 और शोलिंगनल्लूर में 47 पॉजिटिव मामले हैं। कोरोना से प्रभावित होने वालों में 62.४८ प्रतिशत पुरुष और 37.५२ प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned